ग्वालियर,

झांसी-ग्वालियर-इटावा लिंक एक्सप्रेस के इंतजार में खड़ी ग्वालियर-इंदौर इंटरसिटी के एसी बंद होने और कोचों में दुर्गन्ध आने से यात्री भड़क गए। यात्रियों ने प्लेटफॉर्म पर ही धरना दे दिया और रेलवे के खिलाफ नारेबाजी की। करीब एक घण्टे तक जमकर हंगामा किया। इस बीच रेलवे स्टॉफ से यात्रियों की नोंक-झोंक भी हुई। एसी चालू होने के बाद यात्री शांत हुए और ट्रेन में जाकर बैठे।

सोमवार शाम करीब 7 बजे ग्वालियर-इंदौर इंटरसिटी प्लेटफॉर्म-4 पर लग गई। ट्रेन प्लेटफॉर्म पर लगी थी तो कुछ देर बाद वहां यात्रियों का आना शुरू हो गया और यात्री ट्रेन में बैठने लगे। ट्रेन 8 बजे तक नहीं चली, जबकि ट्रेन के रवाना होने का समय 7.30 बजे है। ट्रेन लिंक एक्सप्रेस के इंतजार में खड़ी थी, क्योंकि लिंक एक्सप्रेस के चार कोच सोमवार को इंदौर इंटरसिटी से जुड़कर इंदौर जाने थे। ट्रेन निर्धारित समय से रवाना न होने के साथ-साथ एसी कोचों में एसी चालू नहीं किए गए। साथ ही कोचों में दुर्गन्ध आ रही थी। इस पर यात्रियों ने पहले तो टीटीई से शिकायत की, लेकिन जब चार बार शिकायत करने के बाद भी सुनवाई नहीं हुई तो यात्री आक्रोशित हो गए। आक्रोशित यात्री कोचों से नीचे उतरकर प्लेटफॉर्म पर आ गए। प्लेटफॉर्म पर ही धरने पर बैठ गए और नारेबाजी करने लगे। वहां मौजूद रेलवे स्टॉफ को बंधक बना लिया। हंगामा अधिक बढ़ने पर आरपीएफ-जीआरपी वहां पहुंची। यात्रियों का कहना था कि एक तो ट्रेन चल नहीं रही और कोच के एसी भी बंद कर रखे हैं। हम लोगों ने पूरा किराया दिया है, अगर हमें इंतजार करना है तो ट्रेन के अंदर बैठकर करेंगे। रेलवे स्टॉफ के साथ धक्का मुक्की भी हुई। तत्काल इलेक्ट्रिकल स्टॉफ को बुलाया गया। करीब 9 बजे एसी चालू हुए। इसके बाद यात्रियों को समझाया गया कि लिंक एक्सप्रेस के देर से आने के कारण ट्रेन समय पर रवाना नहीं हो सकी। इसके बाद यात्री ट्रेन में जाकर बैठे। इसके करीब आधा घण्टे बाद ट्रेन ग्वालियर से रवाना हुई।

लिंक एक्सप्रेस से बिगड़ गई ग्वालियर-इंदौर इंटरसिटी की चालः

1 सितम्बर से लिंक एक्सप्रेस चालू हुई। तभी से ग्वालियर-इंदौर इंटरसिटी की चाल बिगड़ गई। लिंक एक्सप्रेस जुड़ने वाले दिन इंदौर इंटरसिटी आधा से एक घण्टा देर से जा रही है। लिंक एक्सप्रेस झांसी से ही देर से आती है। इसलिए ट्रेन ग्वालियर से देर से रवाना हो पाती है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local