ग्वालियर। 90 किमी. प्रतिघंटे की रफ्तार से दिल्ली से आ रही राजधानी एक्सप्रेस ने मुरैना स्टेशन के आगे एक युवक को अपनी चपेट में ले लिया। स्पीड इतनी तेज थी कि रेलवे क्रॉसिंग को पार करने के दौरान वह ट्रेन के इंजन में घुसा चला गया। उसका सिर और दोनों हाथ इंजन के अंदर मशीन में फंस गए थे।

धड़ के नीचे उसके पैर टुकड़ों में घिसटते हुए मांस के लोथड़ों में तब्दील हो गए। इतने भयावय दृश्य को रेलवे के एक गैंगमेन ने जैसे ही देखा तुरंत इसकी सूचना रेलवे प्रबंधन के वरिष्ठ अधिकारियों को दी। सूचना मिलते ही अधिकारी हरकत में आए और उन्होंने राजधानी एक्सप्रेस को ग्वालियर रूट पर मेन लाइन पर रुकवा दिया।

हजरत निजामुद्दीन से चैन्नई सेन्ट्रल की ओर ग्वालियर होते हुए जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस शुक्रवार शाम को करीब 7 बजे मुरैना मेन लाइन से गुजर रही थी। ट्रेन का स्टॉपेज मुरैना नहीं है, इसलिए ट्रेन करीब 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से थी। मुरैना रेलवे स्टेशन के आगे ग्वालियर एंड पर स्थित रेलवे फाटक पर जब ट्रेन गुजर रही थी तो अचानक एक युवक इंजन के आगे आ गया। स्पीड अधिक होने की वजह से वह इंजन में फंस गया।

उसके पैर और धड़ लटका हुआ था। सिर, हाथ इंजन में फंसे थे। इस घटना को वहां तैनात गैगमेन ने देखा। ट्रेन तेज गति में थी। गैंगमेन ने स्टेशन पर सूचना दी और स्टेशन पर सूचना मिलने के बाद गार्ड को मैसेज दिया गया। गार्ड के पास मैसेज पहुंचा, तब तक ट्रेन करीब पांच किलोमीटर आगे निकल चुकी थी।

आनन-फानन में ड्राइवर ने ट्रेन रोकी। इसके बाद वहां जीआरपी पहुंची। जीआरपी ने इंजन से शव को निकाला। इस घटना के चलते 45 मिनट देर से राजधानी एक्सप्रेस ग्वालियर पहुंची। मृतक की पहचान नहीं हो सकी है। ड्राइवर से जब जीआरपी ने पूछा तो उसने बताया कि युवक कब पटरी पर आया कब इंजन में फंसा पता ही नहीं चला।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local