Surya in Hasta Nakshatra: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मानसून की विदाई में देश के एक बड़े हिस्से में भारी बारिश देखने को मिल रही है। ज्योतिषाचार्य सुनील चोपड़ा ने बताया कि मानसून अब कुछ दिनों का बचा है, सूर्य नक्षत्र हिन्दू ज्योतिष शास्त्र में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। ज्योतिष शास्त्र में सूर्य को सभी ग्रहों का राजा माना जाता है क्योंकि सूर्य सभी ग्रहों के बीचों बीच स्थित है। सूर्य एक राशि से दूसरे राशि में प्रवेश करता है, जो उसे सूर्य गोचर कहा जाता है। सूर्य सभी नक्षत्रों से गुजरता है।

विशेष रूप से समस्त नक्षत्रों में से आद्रा नक्षत्र, अश्लेषा नक्षत्र, पुनर्वसु नक्षत्र, पुष्य नक्षत्र, पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र, उत्तराफाल्गुनी, हस्त नक्षत्र के अलावा यदि रोहिणी नक्षत्र का वास समुद्र तट पर हो तो घनघोर वर्षा के योग का निर्माण होता है। सूर्य का हस्त नक्षत्र में 27 सितंबर से प्रवेश से श्रेष्ठ बारिश होने की संभावना है।

सितंबर में बारिश विदाई से पहले एक बार फिर जोर पकड़ेगी। जिसके चलते 24 26 27 व 29 सितंबर की तारीखों के बीच कई स्थानों पर जोरदार बारिश के योग बन रहे हैं। इसके कारण कई प्रमुख नदियों में बाढ के हालात का निर्माण हो सकता है। अभी कुछ दिन और मानसून के सक्रिय रहने की संभावना जताई है। लेकिन यदि ज्योतिष की बात करें तो अभी वर्षाकाल समाप्त नहीं हुआ है। ग्रहों के योग के अनुसार 26 सितंबर से और छह अक्टूबर तक कई बार वर्षा के योग बनेंगे। 27 सितंबर को प्रातः 6:42 पर सूर्य हस्त नक्षत्र में आएंगे जो 10 अक्टूबर को 19:30 बजे तक रहेंगे।

अक्टूबर में भी कुछ दिन बारिश के योग बन रहे हैं। भले ही ये ज्यादा नहीं होंगे, लेकिन बारिश के बाद सर्दी जोर पकड़ेगी। नवंबर के प्रारंभ के दो दिन और मध्य व अंत के तीन दिनों में बारिश के योग हैं। इस दौरान पहाड़ी क्षेत्रों में हिमपात शुरु हो जाएगा, जिससे देशभर में मौसम सर्द हो जाएगा।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close