नई दिल्ली, इंदौर। रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने रेल बजट में बहुप्रतीक्षित इंदौर(महू)-मनमाड़ रेल लाइन को मंजूरी दे दी है। इस प्रोजेक्ट के क्रियान्वयन से मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के पिछड़े हिस्से के विकास को पंख लगेंगे।

इसके साथ ही इंदौर-उज्जैन लाइन के दोहरीकण और फतेहाबाद-उज्जैन छोटी लाइन के बड़ी लाइन में बदलने को भी मंजूरी दी गई है। इंदौर और जबलपुर के बीच नई रेल लाइन बिछाई जाएगी,वहीं देवास-सोनकच्छ-आष्टा-सीहोर के बीच नई रेल लाइन का सर्वे किया जाएगा।

गौरतलब है कि नईदुनिया ने इन तीन प्रमुख योजनाओं को रेल बजट में मंजूरी मिलने की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। ये योजनाएं मालवा क्षेत्र के विकास में मील का पत्थर साबित होंगी। मनमाड़ लाइन प्रोजेक्ट मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र राज्य सरकारों की आर्थिक भागीदारी से क्रियान्वित होगा।

1 - इंदौर-मनमाड़ व्हाया मालेगांव रेल प्रोजेक्ट(368 किमी) लागत 4984 करोड़ रुपए

2 - इंदौर-देवास-उज्‍जैन नई रेल लाइन(80 किमी) 271 करोड़ रुपए

3- इंदौर-देवास-उज्जैन के बीच दोहरीकरण के लिए स्थान सर्वेक्षण(80किमी) 38 करोड़ रुपए

4- फतेहाबाद-उज्जैन ब्राडगेज लाइन, लागत 120 करोड़ रुपए

5- दोहद-इंदौर व्हाया सरदारपुर, झाबुआ और धार, अमझेरा नई रेल लाइन(200 किमी) लागत 100 करोड़ रुपए

6- छोटा उदयपुर-धार(157किमी), 200 करोड़ रुपए

7- रतलाम-महू-खंडवा-अकोला गेज कन्वर्जन(472 किमी) लागात 100 करोड़ रुपए

8- लेवल क्रांसिंग(एलसी) नंबर 267 की जगह रतलाम-खंडवा सब वे

9- बरलाई-देवास एलसी नंबर 30 के स्थान पर रेलवे ओवरब्रिज

10- बरलाई-मांगलियागांव एलसी 05 की जगह रेलवे ओवरब्रिज

11- रतलाम-खंडवा प्रोजेक्ट, राजेंद्र नगर यार्ड में एलसी नंबर 254-एक्स की जगह आरओबी

12- रतलाम-खंडवा प्रोजेक्ट के अंतर्गत एलसी नंबर 263 एवं 267 के स्थान पर सब वे

पढ़ें : इंदौर-मनमाड़ रेल लाइन सहित प्रभु के पिटारे से 3 सौगातें

1. मुंबई को और करीब लाएगी मनमाड़ लाइन

* इंदौर (महू)-मनमाड़ लाइन करीब 339 किमी लंबी है और इसकी अनुमानित लागत तीन हजार करोड़ रुपए से ज्यादा है।

* यह रेल लाइन महू से सेंधवा, शिरपुर, धुलिया होते हुए मनमाड़ पहुंचेगी।

* अभी वाया वडोदरा-सूरत होते हुए इंदौर-मुंबई की दूरी 829 किमी है, जो घटकर 560 किमी हो जाएगी।

* पीथमपुर निर्यात के लिए सीधा बंदरगाह से जुड़ जाएगा।

* उत्तर-दक्षिण भारत की दूरी घटेगी और राष्ट्रीय स्तर पर वैकल्पिक गलियारा मिलेगा।

* इंदौर-पुणे के बीच मनमाड़-दौंड होते हुए सीधा संपर्क स्थापित होगा।

* इंदौर का रेल संपर्क शिर्डी-पंढरपुर से हो सकेगा।

2. इंदौर-देवास के बीच पहले होगा दोहरीकरण

* अभी 79 किमी लंबी इंदौर-देवास-उज्जैन लाइन पर 35 से ज्यादा दैनिक, साप्ताहिक, द्विसाप्ताहिक या सप्ताह में तीन, चार और पांच दिन चलने वाली ट्रेन का दबाव है।

* ट्रेनों की अत्यधिक संख्या के कारण अप-डाउन ट्रेनों को क्रॉसिंग के लिए लंबे समय तक खड़ा रहना पड़ता है। इससे यात्रियों का बहुमूल्य समय जाया होता है।

* रेलवे ने तय किया है कि सबसे पहले इंदौर-देवास लाइन का दोहरीकरण किया जाए, क्योंकि देवास-मक्सी लाइन के कारण देवास-इंदौर के बीच यात्री ट्रेनों का दबाव ज्यादा है।

* रेलवे 460 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट में दोहरी लाइन के साथ विद्युतीकरण भी करेगा।

3. फतेहाबाद-उज्जैन ब्रॉड गेज से 17 किमी घटेगी उज्जैन की दूरी

* फतेहाबाद-उज्जैन के बीच वर्तमान में 22 किमी मीटर गेज बिछी है। कायदे से इसी टुकड़े को रतलाम-इंदौर ब्रॉडगेज प्रोजेक्ट के साथ-साथ ही बड़ी लाइन में बदला जाना था लेकिन रेलवे ने इसे प्रोजेक्ट से हटा दिया था।

* इस हिस्से में बड़ी लाइन बिछाने पर 105 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि खर्च होगी।

* बीच में रेलवे ने इसमें राज्य सरकार से 50 फीसदी लागत भागीदारी करने को कह दिया था। हालांकि अभी इसे लेकर अंतिम फैसला होना बाकी है।

* अभी उज्जैन होते हुए भोपाल या ग्वालियर तरफ आने-जाने वाली ट्रेनों के इंजन की दिशा उज्जैन में बदलना पड़ती है। फतेहाबाद-उज्जैन लाइन यह झंझट खत्म कर देगी और यात्रियों का समय बचेगा।

* इंदौर-उज्जैन के बीच देवास होते हुए दूरी 79 किमी है जो फतेहाबाद लाइन बनने के बाद घटकर 62 किमी रह जाएगी। इंदौर-उज्जैन के बीच अतिरिक्त गाड़ियां चलाई जा सकेंगी।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close