इंदौर। ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2016 का रविवार को इंदौर के ब्रिलिएंड कन्‍वेंशन सेंटर में समापन हुआ। दो दिवसीय इस समिट में मध्‍यप्रदेश सरकार को 5 लाख 62 हजार 847 करोड़ रूपये के 2630 इन्टेंशन टू इन्वेस्ट यानि निवेश के इरादे मिले हैं। आइये जानते हैं समापन दिवस की दस प्रमुख बातें-

यह भी पढ़ें:निवेश के लिये मध्यप्रदेश सबसे अधिक पसंदीदा राज्य बना-सुषमा स्वराज

  • समापन समारोह में केन्द्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि सतत प्रयासों के फलस्वरूप मध्यप्रदेश आज निवेश के लिये मध्यप्रदेश सबसे अधिक पसंदीदा राज्य बन गया है।
  • मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने बताया कि समिट में 42 देशों के लगभग 4 हजार निवेशकों ने भाग लिया। अगली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट इंदौर में 16 और 17 फरवरी 2019 को होगी।

समापन समारोह में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणाएं

  • श्रीमती स्वराज ने कहा कि भारत को 21वीं सदी की चुनौतियों का सामना करने के लिये मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, क्लीन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, स्टेण्डअप इंडिया और स्मार्ट सिटी जैसे कार्यक्रम शुरू किये गये हैं। विश्व बैंक ने भारत को सबसे अधिक खुली अर्थव्यवस्था बताया है।
  • 25 मिलियन अप्रवासी भारतीय भारत के विकास में योगदान दे रहे हैं। उन्हें संवाद का मंच उपलब्ध कराने के लिये प्रवासी भारतीय दिवस 7 जनवरी 2017 को बैंगलोर में आयोजित किया जायेगा।

मध्यप्रदेश अब देश का मुख्य प्रदेश-वैंकेया नायडू

  • केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री वैंकैया नायडू ने कहा कि मध्यप्रदेश के लिये इस्तेमाल होने बीमारू होने वाला शब्द अब अतीत की बात हो गई। पिछले दस सालों में मध्यप्रदेश मुख्यप्रदेश बन गया है। 18900 मेगावाट बिजली उपलब्ध होना एक रेकार्ड है।
  • केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण राज्य मंत्री अनिल माधव दवे ने कहा कि वन, पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय उदयोगों को 120 दिन में स्वीकृति दे रहा है। उद्योगों को वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन पर भी ध्यान देने की जरूरत है।
  • केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गेहलोत ने कहा कि मध्यप्रदेश ने तेज गति से विकास किया है। दिव्यांगों के लिये आवश्यक उपकरणों के निर्माण के उद्योग देश में ही शुरू किये गये हैं।
  • केन्द्रीय पेट्रोलियम राज्य मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि मध्यप्रदेश में पिछले दस वर्षों में अभूतपूर्व विकास हुआ है। प्रदेश में 20 प्रतिशत से अधिक की कृषि विकास दर का प्रभाव अर्थव्यवस्था पर भी हुआ है। जीएसटी लागू होने से पेट्रोलियम उत्पादों पर करों से होने वाली आय में राज्यों को कोई नुकसान नहीं होगा।
  • छिंदवाड़ा प्लस एसईजेड के डायरेक्टर कमल कुमार अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश में 30 हजार करोड़ रूपये का निवेश करेंगे। जिसमें एक लाख लोगों को रोजगार मिलेगा। महिन्द्रा लाईफ स्पेस के मुख्य कार्यपालन अधिकारी संगीता प्रसाद ने कहा कि उनकी कम्पनी मध्यप्रदेश में पीपीपी मॉडल पर इकॉनामिक सिटी विकसित करेगी। एवगॉल इंडिया की निदेशक तामी हिरसजोर्न ने कहा कि हाईजेनिक सॉल्यूशन प्रोडक्ट मेन्यूफ्रेक्चरिंग के लिये उनकी कम्पनी मध्यप्रदेश में निवेश करेगी।
  • प्रदेश के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि मध्यप्रदेश औद्योगिक निवेश के बेहतर डेस्टिनेशन के रूप में उभरा है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close