अमित जलधारी, इंदौर, Lakshmi Bai Nagar Railway Station। लक्ष्मीबाई नगर रेलवे स्टेशन पर पश्चिम रेलवे एक और अतिरिक्त लाइन बिछाएगा। इंदौर-उज्जैन रेल लाइन दोहरीकरण प्रोजेक्ट के अंतर्गत यह काम होगा। इसके लिए प्रोजेक्ट में बदलाव को अधिकारियों ने सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। नए काम से योजना की लागत में लगभग 50 करोड़ रुपये का इजाफा होगा। उक्त लाइन बिछने से न केवल ट्रेनों की क्रासिंग में आसानी होगी, बल्कि रेलवे को ट्रेन संचालन में भी परेशानी नहीं आएगी। दोहरीकरण प्रोजेक्ट के तहत अब तक लक्ष्मीबाई नगर में कोई काम करने की योजना नहीं थी, लेकिन रतलाम रेल मंडल के विशेष आग्रह पर नया काम जोड़ने पर अधिकारी सहमत हो गए हैं। पुराने प्रोजेक्ट में दोहरीकृत लाइन स्टेशन के पहले (देवास की तरफ) आकर मौजूदा इंदौर-उज्जैन लाइन में मिलाने की योजना थी।

अधिकारियों का कहना है कि इससे आने-जाने वाली ट्रेनों को क्रासिंग के लिए बार-बार रोकना पड़ता और यात्री ट्रेन लेट होती। रेलवे के लिए इस तरह ट्रेनों को चलाना कठिन हो जाता। नई योजना के तहत अतिरिक्त लाइन लक्ष्मीबाई नगर स्टेशन को पार करते हुए इंदौर की तरफ बने रेलवे क्रासिंग तक बिछाई जाएगी। लक्ष्मीबाई नगर से इंदौर के बीच पहले ही दोहरीकृत रेल लाइन है, इसलिए इंदौर से उज्जैन के बीच आने-जाने वाली ट्रेनों को पूरे सेक्शन में अलग-अलग रेल लाइन उपलब्ध हो जाएगी। 79 किमी लंबे इंदौर-उज्जैन दोहरीकरण प्रोजेक्ट की मौजूदा लागत करीब 600 करोड़ रुपये है। अब तक उज्जैन से कड़छा के बीच दोहरीकृत लाइन बिछ चुकी है।

प्लेटफार्म एक टूटेगा, होगा बदलाव : नई लाइन प्लेटफार्म एक की तरफ बिछाई जाएगी। इसके लिए प्लेटफार्म तोड़कर वहां बदलाव करना पड़ेगा। संभव है कि इसकी चौड़ाई वर्तमान से घट जाए, क्योंकि भागीरथपुरा तरफ रेलवे के पास जमीन कम है। सूत्रों ने बताया कि मौजूदा स्टेशन बिल्डिंग का कुछ हिस्सा भी तोड़ना पड़ेगा और बिल्डिंग बीच में आ जाएगी। यह बिल्डिंग और प्लेटफार्म कुछ साल पहले फतेहाबाद-इंदौर गेज कन्वर्जन प्रोजेक्ट के तहत बनाए गए थे।

इंदौर-उज्जैन लाइन दोहरीकरण प्रोजेक्ट के तहत पहले लक्ष्मीबाई नगर स्टेशन पर कोई काम नहीं होना था और नई लाइन स्टेशन के पहले देवास की ओर वर्तमान लाइन में मिलनी थी। अब इसमें बदलाव किया गया है और दोहरीकृत लाइन अब स्टेशन के आगे (इंदौर की तरफ) क्रासिंग तक बिछाई जाएगी। इसमें स्टेशन के पास नाले पर नया बड़ा पुल बनाना पड़ेगा। नए काम से प्रोजेक्ट की लागत करीब 50 करोड़ रुपये बढ़ेगी। - विनीत कुमार मंडल रेल प्रबंधक, रतलाम

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local