इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Malnutrition Indore News। आजादी का अमृत महोत्सव के तहत राष्ट्रीय पोषण माह का आयोजन एक से 30 सितंबर के बीच आयोजित किया जा रहा है। इस अभियान के तहत शासकीय अष्टांग आयुर्वेद कालेज द्वारा आंगनवाड़ी व स्कूलों में छात्रों को कुपोषण के बारे में जानकारी दी रही है।

कुपोषण से बचाव के लिए छात्रों को आयुर्वेद दवा सुपुष्टि चूर्ण, क्षीरबला तेल, अश्वगंधा चूर्ण वितरित किया जा रहा है। इसके अलावा जागरुकता के लिए शहर के अलग-अलग स्थानों व रहवासी इलाकों में पर्चे भी बांटे जा रहे हैं। स्कूलों में अष्टांग आयुर्वेद कालेज के के योग विशेषज्ञ डा. शिरीष श्रीवास्तव द्वारा छात्रों को योग भी सिखाया जा रहा है। पिछले दिनों आयुर्वेद कालेज में बाल रोग विभाग की व्याख्याता डा. प्रीति हरोड़े और डा. धमर्ेेन्द्र शर्मा ने अन्नापूर्णा रोड स्थित महावर नगर के आंगनवाड़ी केंद्र में बच्चों का शारीरिक व मानसिक परीक्षण किया। इसके अलावा केंद्र में उपस्थित आंगनवाड़ी, आशा कार्यकर्ता व गर्भवती महिलाओं को कुपोषण से होने वाली व्याधियों के बारे में जानकारी दी।

इस दौरान उन्हें पोषण का महत्व बताते हुए पालक, सहजन, बथुआ, मैथी, गाजर में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में बताया गया। उन्हें कहा गया कि वे खुद भी इन चीजों का सेवन करे और बच्चों को भी इसे खिलाए। अष्टांग आयुर्वेद कालेज के प्राचार्य डा. सतीश शर्मा के मुताबिक कुपोषण में आयुर्वेद दवाओं का काफी कारगर होती है। इनके साथ पोषक तत्वों के लिए फल व सब्जियों को अपने भोजन में शामिल करना चाहिए। जिन बच्चों में कुपोषण की शिकायत है उनके स्वजन अपने बच्चों को अष्टांग आयुर्वेद कालेज के चिकित्सालय में लाकर उपचार दिलवा सकते हैं।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local