- 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' के मौके पर कार्निवाल इमेजिनेशन क्रूज पर योग किया शहर के योग एक्सपर्ट कृष्णा मिश्रा ने

इंदौर। नईदुनिया रिपोर्टर

'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' के मौके पर संपूर्ण संसार को योग का संदेश के लिए शहर के योग एक्सपर्ट कृष्णा मिश्रा ने विदेशियों के बीच क्रूज पर योग क्रियाएं कीं। उन्होंने अमेरिका के लोंग बीच से मैक्सिको के बीच चलने वाले कार्निवाल इमेजिनेशन कू्रज पर 21जून को कई देशों के लोगों को समुद्र के बीच योग सिखाकर इतिहास रच दिया। जहां उन्होंने अमेरिका, मैक्सिको, भारत समेत अलग-अलग देशों के करीब 100 लोगों को ताड़ासन और शिखर आसान का अभ्यास कराया।

मिश्रा ने बताया कि अपने इन प्रयासों से मैं साबित करना चाहता हूं कि दुनिया में जहां कहीं भी इंसान के रहने लायक जगह है, वहां योग करके अपनी जिंदगी को और आसान बनाया जा सकता है। पिछले साल 'विश्व योग दिवस' के मौके पर मैं कैलाश मानसरोवर के पास 11940 फुट की ऊंचाई पर स्थित हिल्सा पहाड़ी पर 35 सदस्यीय दल के साथ था। इसमें भारत के अलावा अमेरिका और दुबई के लोग भी शामिल थे। ऑक्सीजन की कमी के चलते वहां एक-एक कदम चलना मुश्किल हो रहा था। ऐसे में योग के बारे में कोई सोचना भी नहीं चाहता था। लेकिन मुझे तो हर हाल में 'योग डे' सेलिब्रेट करना था। मैंने उन्हें समझाया कि जो लोग यहां के आसपास के क्षेत्रों में 24 घंटे रहते हैं, पूरी जिंदगी गुजार देते हैं, वो भी तो इंसान हैं। अगर वो यहां जीवन की हर गतिविधि कर सकते हैं तो हम योग क्यों नहीं कर सकते। इससे मोटिवेट हुए सभी लोगों ने वहां कई योगासन और प्राणायाम किए। जिससे साबित हो गया कि इंसान अपने शरीर को किसी भी स्थिति में ढाल सकता है, बस जरूरत ऊंचे मनोबल की है।

उड़ते विमान में करना है योग

मिश्रा बताते हैं कि उन्होंने 2017 में उड़ते हवाई जहाज पर योग की परमिशन मांगी थी लेकिन सुरक्षा कारणों से मुझे अनुमति नहीं दी गई। 2020 में मैं इसके लिए फिर प्रयास करूंगा, क्योंकि अगर उड़ते विमान में फिल्म की शूटिंग हो सकती है तो योग करने में क्या दिक्कत हो सकती है। 56 साल के कृष्णा को 1982 में ब्रेन ट्यूमर के ऑपरेशन के चलते सिर में करीब 40 टांके लगाने पड़े थे। उन्होंने बताया कि ऑपरेशन सफल रहा मगर मेरे धड़ का दाहिनी हिस्सा लकवाग्रस्त हो गया, लेकिन इसके बाद मैंने अपनी जीवनशैली पूरी तरह बदल ली। खान-पान, रहन-सहन में सुधार किया और फिर धीरे-धीरे फिजियोथेरेपी, योग और सेल्फ हीलिंग से लकवे से मुक्त हो गया।

(फोटो है)