इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। फिल्म पठान के विरोध प्रदर्शन से शुरू हुआ विवाद शहर की फिजा बिगाड़ सकता था। बड़वाली चौकी पर सर तन से जुदा के नारे लगाए तो खजराना में हजारों लोगों ने जाम लगा दिया। हाथों में रक्षासूत्र-तिलक देख लोगों को पीटा गया। एक युवक पर चाकू से हमला कर दिया।

शुरुआत चंदननगर थाने से हुई, मुफ्ती सैय्यद साबिर अली, मौलाना अहमद मियां, शादाब हाफिज और पार्षद पति रफीक मंसूरी सहित सैंकड़ों लोग थाने पहुंचे और उस नारे पर आपत्ति ली जो हिंदू संगठन के लोगों ने कस्तूर टाकिज के सामने लगाए थे। एसीपी बीपीएस परिहार के आश्वासन और प्रकरण दर्ज होने के बाद प्रदर्शनकारी थाने से हट गए लेकिन दूसरे क्षेत्रों में भीड़ जमा होने लग गई। मुस्लिम समाज की महिलाएं, युवतियां, बच्चों को लेकर नारेबाजी करने लगी। मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में हजारों की भीड़ जमा हो गई और इंटेलिजेंस को भनक तक नहीं लगी।

बच्चों की भीड़ में लगा सर तन से जुदा के नारे

बड़वाली चौकी पर कुछ उत्पाती युवकों ने छोटे बच्चों को आगे किया और नारेबाजी शुरू कर दी। उस वक्त बड़े अधिकारी नदारद थे। देखते ही देखते भीड़ जमा हो गई और सर तन से जुदा के नारे लगा दिए। काफी देर बाद बड़े अफसर पहुंचे और मुस्लिम नेताओं को बुलाकर भीड़ को शांत करवाया। देर रात पुलिस ने वीडियो देखकर अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया और सदर बाजार थाना पुलिस ने कुछ संदेहियों को हिरासत में लिया। एडीसीपी जोन-1 जयवीरसिंह भदौरिया के मुताबिक वीडियो के आधार पर कईं लोगों को चिह्नित कर लिया है।

जमजम चौराहा से शुरु हुई भीड़ ने थाना घेरा

खजराना थाना क्षेत्र में भीड़ जमा होना शुरू हो गई, शुरुआत जमजम चौराहा से हुई। करीब 25 लोगों ने ज्ञापन देने के लिए कहा तो कनाड़िया टीआइ जेपी जमरे पहुंच गए। पुलिस कुछ समझ पाती इसके पहले हजारों लोगों की भीड़ जमा हो गई। भीड़ ने जमजम चौराहा पर ही कनिष्क पुत्र अजीत निवासी उषा फाटक को चाकू मार दिया। पुलिसवालों को भी घेर लिया। भीड़ खजराना गणेश मंदिर की तरफ बढ़ने लगी। सूचना मिलने पर बल स्थिति संभालने पहुंची। इस बीच उत्पातियों ने उन लोगों को पीटा जिनके हाथो में रक्षासूत्र बंधे थे। स्थिति संभालने के लिए पुलिस ने मौलवी और मुस्लिम समाज के अन्य वरिष्ठों को बुलाया। करीब आठ बजे स्थिति सामान्य हुई। पुलिस ने इरफान, फुरकान, मोहम्मद रहमान को चिह्नित कर लिया है। डीसीपी जोन-2 संपत उपाध्याय के मुताबिक आरोपितों की तलाश चल रही है।

हिंदू संगठन के चार लोग गिरफ्तार

विवाद की शुरुआत कस्तूर टाकीज से हुई थी। बजरंग दल विभाग संयोजक तन्नू शर्मा समर्थकों के साथ कस्तूर टाकीज पहुंचा और फिल्म पठान का विरोध किया। इस दौरान उसने आपत्तिजनक नारे लगाए। मुस्लिम समुदाय की आपत्ति के बाद छत्रीपुरा थाना में हिंदू संगठन के लोगों के मुफ्ती सैय्यद साबिर की शिकायत पर खिलाफ धारा 505 के तहत केस दर्ज किया गया। देर रात पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया। देर रात पुलिस ने धाराओं में बढ़ोतरी की और चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया। तन्नू की तलाश में छापा मारा लेकिन वह फरार हो गया।

जगह-जगह विरोध, खुफिया तंत्र फेल

शहर में सुबह से ही प्रदर्शन शुरू हो गया था। हिंदू संगठन का वीडियो जारी होने के बाद मुस्लिम समुदाय के लोग एकत्र होने लगे थे। चंदननगर, खजराना, सदर बाजार और मधु मिलन पर भीड़ जमा हुई लेकिन खुफिया तंत्र को पता ही नहीं चला। आपत्तिजनक नारे सामने आने के बाद खुफिया रिपोर्ट पर केस दर्ज करने पड़े।

सौहार्द बिगाड़ने वालों की पहचान

पुलिस अलर्ट है। साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वालों को चिन्हित किया जा रहा है। इंटरनेट मीडिया पर भी इंटेलिजेंस और साइबर सेल की नजरें है। - हरिनारायणाचारी मिश्र पुलिस आयुक्त

महू में भी लगे आपत्तिजनक नारे

महू में भी बुधवार रात करीब आठ बजे मुस्लिम समाजजन ने रैली निकाली और कोतवाली थाने पहुंचे। यहां पर शहर काजी मुफ्ती मोहम्मद जाबिर ने एसपी और एसडीओपी के नाम ज्ञापन सौंपकर पैगंबर-ए-इस्लाम पर टिप्पणी करने वालों पर कड़ी कार्रवाई करते हुए उनके घर तोड़ने की मांग की। रैली में सर तन से जुदा, सर तन से जुदा... के नारे लगाने का वीडियो सामने आया है। हालांकि, एडिशनल एसपी शशिकांत कनकने ने बताया कि हमारे पास ऐसी कोई जानकारी नहीं आई है। इसके पूर्व दोपहर में भी मुस्लिम समाजजन ने रैली निकाली थी।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close