जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। संभागीय संयुक्त संचालक शिक्षा कार्यालय में रिश्वत के मामले में आरोपित संयुक्त संचालक सहित दो कर्मचारियों पर अब निलंबन को लेकर अंदेशा जाहिर हो रहा है। विभाग लोकायुक्त की नोटशीट का इंतजार कर रहा है ताकि कार्रवाई आगे बढ़ाई जा सके। लोक शिक्षण संचालनालय ने इस संबंध में आवश्यक जानकारी मांगी है। संभागीय संयुक्त संचालक का निलंबन का अधिकारी आयुक्त लोक शिक्षण को है। गुरुवार को कार्यालय खुलने पर इस पर कार्रवाई होने के आसार हैं।

विदित हो कि विगत दिवस संभागीय संयुक्त संचालक कार्यालय में पदस्थ एक महिला भृत्य ने लोकायुक्त को रिश्वत मांगने की शिकायत की थी। कहा गया था कि कम्प्यूटर चोरी मामले में जेडी राममोहन तिवारी द्वारा कार्रवाई और क्वार्टर खाली कराने की धौंस दी जा रही थी । ऐसा न करने के एवज में 21 हजार रुपए मांगे जा रहे थे। लोकायुक्त की टीम ने महिला भृत्य की बातचीत को ट्रेप किया। जब 12 अक्टूबर कीशाम को पैसे लेकर जेडी ने कार्यालय में बुलाया।

उक्त राशि महिला का बेटा मो गुलजार द्वारा एकाउंटेट अशोक शिववेदी एवं संतोष भटेले को सौंपने कहा गया जैसे ही पैसे दिए उसी दौरान लोकायुक्त ने पकड़ लिया। जेडी राममोहन तिवारी सहित तीनों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम का प्रकरण लोकायुक्त द्वारा दर्ज किया गया। इधर विभाग में चर्चा है कि षणयंत्र के तहत फंसाया गया है। हालांकि जांच के बाद सच सामने आएगा।इधर मप्र तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के योगेंद्र दुबे,अटल उपाध्याय,मंसूर ने भी आरोप लगाया कि जेडी आफिस भ्रष्टाचार का गढ़ बन चुका है जहां आए दिन काम करवाने के नाम पर पैसे की मांग की जाती है। उन्होंने आरोपित कर्मियों को तत्काल निलंबित करने की मांग की है।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local