जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। ट्रेनों में रेल संपत्ति की सुरक्षा करने वाली आरपीएफ ने यात्रियों की सुरक्षा में भी अपनी पूरी जिम्मेदारी से कार्य किया। उन्होंने कई बिछड़े बच्चों को उनके परिजनों तक पहुंचाया तो वहीं कई यात्रियों की जान भी बचाई।

रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) को रेलवे संपत्ति, यात्री क्षेत्र, यात्रियों और उससे जुड़े मामलों की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वे जरूरतमंद यात्रियों को सहायता भी प्रदान करने के साथ-साथ देखभाल और सुरक्षा की जरूरत वाली महिलाओं और बच्चों का बचाव भी करते हैं। इन्हें जिम्मेदारियों का कुशलता पूर्वक निर्वहन करने हेतु चौबीसों घंटे सतत कार्य करते हुए रेल सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने हर कार्य को आसान बना दिया और ट्रेनों की सुरक्षा के साथ यात्री की सुरक्षा में सतर्कता बरती।

811 वेंडर से वसूला जुर्माना: यात्री गाड़ियों एवं स्टेशनों पर अनाधिकृत रूप से खाद्य सामग्री बेचने वाले 811 वेंडरों पर रेल अधिनियम की धारा 144 के तहत प्रकरण दर्ज करते हुए 7 लाख 34 हज़ार 50 रुपए जुर्माना वसूल किया गया। रेल संपत्ति की चोरी के 27 प्रकरणों में से 23 प्रकरणों को हल करते हुए 53 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया एवं उनके कब्जे से 4 लाख 78 हज़ार 190 रुपये की रेल संपत्ति बरामद की गई।

आरपीएफ ने चलाए अभियान:

1, फरिश्ते अभियान के तहत घर से भागे हुए, अपहृत हुए, बिछड़े हुए 29 बालक एवं बालिकाओं को सुरक्षित उनके परिजनों, चाइल्ड लाइन को सुपुर्द किया गया।

2, मिशन जीवन रक्षा अभियान के तहत 01 यात्री को बचाते हुए उसके जीवन को सुरक्षित किया गया।

3, ऑपरेशन मातृशक्ति के तहत महिला आरपीएफ कर्मी द्वारा 01 गर्भवती महिला यात्री को सहायता प्रदान करते हुए उसके जीवन एवं नवजात के जीवन को सुरक्षित किया गया।

4, ऑपरेशन अमानत के तहत 59 यात्रियों को उनके छूटे, मिसिंग समान अनुमानित कीमत 11लाख 71 हज़ार 100 रुपये को सुरक्षित सुपुर्द किया गया।

5, अवैध रूप से ई-रेलवे टिकटों का व्यापार करने वालों पर 09 प्रकरण दर्ज करते हुए 10 व्यक्तियों को गिरफ्तार करते हुए कुल 1978 रेल ई-टिकटों कीमत 32 लाख 06 हजार 109 रुपये के ई-टिकटों को जप्त किया गया।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local