जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। बच्चों के साथ होने वाले अपराधों की संख्या अधिक है लेकिन जागरूकता के अभाव में न तो बच्चे ही अपने लिए आवाज उठा पाते हैं और न ही ऐसी घटनाएं ज्यादातर सामने आ पाती है। बाल अपराध एक वैश्विक समस्या है जिसके निराकरण के लिए बड़े पैमान में जागरूकता की आवश्यकता है। बच्चों के लिए कार्य करने वाले मप्र से एकमात्र नोबल पुरस्कार विजेता और बचपन बचाओ आंदोलन के संस्थापक डा. कैलाश सत्यार्थी के जन्मदिन बचपन दिवस पर जबलपुर की फ्लैशलाइट वेलफेयर सोसायटी व चाइल्डलाइन-1098 के सहयोग से एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

मनमोहन नगर बस्ती के बच्चों के बीच आयोजित इस कार्यक्रम में चाइल्डलाइन -1098 जबलपुर की ओर से ललिता ने बच्चों को गुड टच- बैड टच के साथ-साथ अनेक अवांछित गतिविधियों के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि इन जानकारियों के अभाव में बच्चे यौन हिंसा जैसे अपराध में फंस जाते हैं। समाज के लिए अभिशाप ऐसे क्रियाकलापों से दूर रहने व बचने के तरीकों को भी इस दौरान बच्चों को बताया गया। जिससे बच्चों को पता हो कि उन्हें जरूरत पड़ने पर उन्हें किन-किन बातों का विरोध करना है। इस अवसर पर चाइल्डलाइ-1098 की महत्वपूर्ण सेवाओं के बारे में भी उपयोगी जानकारी दी गई। उन्होंने बच्चों को बड़े सरल ढंग से समझाया कि कैसे अप्रिय स्थितियों से बचा जा सकता है। इस सोसायटी के सदस्य जबलपुर की बस्तियों व वंचित तबके की बस्तियों के बच्चों के बीच शैक्षणिक उन्नयन, स्वास्थ्य, स्वच्छता व सम्यक व्यक्तित्व निर्माण संबंधी परियोजनाओं पर काम कर रहे हैं। कार्यक्रम में बच्चों की उपस्थिति रही। सोसायटी की ओर से आकाश नेमा, अदिति, आयुषी, पारुल, हुमा सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close