जितेंद्र बैरागी, बामनिया।

भारतीय रेलवे यात्रियों की सुरक्षा व यात्रा सुलभ करने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। जिससे ट्रेन में यात्रा के दौरान किसी प्रकार की असुविधा ना हो, मगर सब्जी व्यवसाय से जुड़े लोग सब्जी के ब.डे-ब.डे पोटलों ट्रेनों के डिब्बे के गेट पर रख देते हैं। जिससे यात्रियों को ट्रेन में चढ़ने और उतरने में परेशानी के साथ असुरक्षित यात्रा करनी पड़ती है।

मेमू ट्रेन अनारक्षण टिकट के साथ समय से चलती है। रतलाम से दाहोद की ओर चलने वाली ट्रेन बामनिया से मेमो 9ः10 बजे, देहरादून एक्सप्रेस 10ः13 बजे, शाम को अवध एक्सप्रेस 5ः54 बजे, पार्सल पैसेंजर 7ः31 बजे और इसके अलावा भी दो ट्रेन रात्रि में चलती हैं। इन सभी ट्रेनों में से मेमो ट्रेन सुबह समय यात्रियों के काम हिसाब से सही है। ट्रेन में सबसे ज्यादा यात्रा करने वाला डेली अपडाउन वाले रहते हैं। मरीजों का गुजरात इलाज करवाने जाना रहता है। सब्जी वालों के अवैध तरीके से पोटली लाने ले जाने से यात्री, मरीजों को सीमित समय गाड़ी के स्टाप के कारण उतरना-च.ढने में परेशानी आती है।

दिनोंदिन बढ़ती जा रही तादाद

रेलवे के इतने सख्त नियम होने के बावजूद ट्रेन के अंदर सब्जी के पोटले वालों की तादाद दिनोंदिन बढ़ती जा रही। रतलाम जंक्शन रेलवे स्टेशन पर भारी पुलिस विभाग एवं टीसी की मानीटरिंग के बावजूद सब्जी वाले अवैध तरीके से पोटली ट्रेन में कैसे रखते हैं। वही देखा जाए तो टीसी की नजर से बिना टिकट वाले बच नहीं सकते। मगर अवैध तरीके से सब्जी के पोटले बामनिया तक बिना रोक-टोक धड़ल्ले से आ रहे हैं।

अभद्र व्यवहार कर धक्का-मुक्की करते हैं

जब इस विषय में रिपोर्टर ने पैसेंजर से बात करना चाही तो इन लोगों के डर के कारण उन्होंने अपना नाम तक नहीं बताया पर अपना दुखड़ा जरूर सुनाया।

रतलाम प्लेटफार्म नंबर चार पर यह सब्जी के पोटले रखते हैं। पुलिस बल, टीसी व रेलवे प्रबंधक का ऑफिस भी सामने की ओर है, इन सबकी आंखों के सामने ये लोग पोटले ट्रेनों में च.ढाते हैं, लेकिन कोई आपत्त्ति नहीं लेता है। किसी पैसेंजर ने इनको पोटले चढ़ाते समय रुकने का कह दिया तो उसके साथ अभद्र व्यवहार कर गाली- गलौज के साथ धक्का-मुक्की करते हैं।

छह महीने से आरपीएफ चौकी प्रभारी नहीं

रतलाम से मेघनगर तक के बीच का सबसे बड़ा बामनिया रेलवे स्टेशन है। मगर यहां छह महीने से आरपीएफ चौकी प्रभारी का पद खाली पड़ा है। केवल एक सिपाही के भरोसे इतना लंबा सेक्शन 40 किलोमीटर का चल रहा है। यह अवैध गतिविधि ब.ढने का सबसे बड़ा कारण है। कुछ समय बीच-बीच में सब इंस्पेक्टर मेघनगर से ड्यूटी पर आते थे। अभी इनका भी आना-जाना बंद है। फिलहाल एक सिपाही पूरे रेलवे स्टेशन की सुरक्षा संभालता है। मेघनगर आरपीएफ टीआइ धर्मपालसिंह का कहना है कि हमारे द्वारा रोज चलानी कार्रवाई की जाती है, मगर अधिकतर महिलाएं होने के कारण बच निकलती है।

करवाऊंगा कार्रवाई

इस संबंध में रतलाम मंडल के डीआरएम विनीत गुप्ता का कहना है कि वे आरपीएफ को भिजवाकर इस संबंध में कार्रवाई करवाएंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close