नरसिंहपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। इटारसी से जबलपुर की ओर जाने वाली भारत दर्शन ट्रेन बुधवार की सुबह सालीचौका में करीब तीन घंटे तक खड़ी रही। ट्रेन के इंजन का एक्सल जाम होने से चालक को यहां ट्रेन रोकना पड़ा। जैसे ही ट्रेन रुकी और सवार लोगों को खराबी का पता चला तो यात्री ट्रेन से उतर आए और कुछ लोगों ने अपनी संगीत की सामग्री निकालकर प्लेटफार्म पर ही भजन शुरू कर दिया। गाडरवारा से जब मालगाड़ी का इंजन सालीचौका भेजा गया तो ट्रेन को आगे के लिए रवाना किया गया। भारत दर्शन दर्शन ट्रेन में आई खराबी से इंटरसिटी एक्सप्रेस भी करीब एक घंटे पिपरिया में खड़ी रही।

कुछ भी कहने से बचते रहे अधिकारी : भारत दर्शन ट्रेन के इंजन में आई खराबी और सालीचौका में ट्रेन के करीब तीन घंटे तक खड़े रहने के मामले में रेलवे ने जांच शुरू कर दी है। वहीं स्थानीय स्तर पर रेलवे के अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे है। बताया जाता है कि बुधवार की सुबह इटारसी से जबलपुर की ओर जाने वाली भारत दर्शन स्पेशल ट्रेन सुबह करीब 7 बजकर 10 मिनट पर सालीचौका रोड रेलवे स्टेशन पहुंची और यहां अचानक इंजन में खराबी आने से ट्रेन रुक गई। रेलवे कर्मचारियों ने जब जांच की तो पता चला कि इंजन का एक्सल जाम हो गया है। जिसकी सूचना तत्काल रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई। इसी दौरान भोपाल से आने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस को भी पिपरिया रेलवे स्टेशन पर करीब एक घंटे तक रोक दिया गया। गाडरवारा रेलवे स्टेशन से जब एक मालगाड़ी का इंजन सालीचौका भेजा गया तो उसके जरिए भारत दर्शन ट्रेन को सुबह करीब 10 बजकर एक मिनट पर आगे के लिए रवाना किया गया।

भजन गाकर गुजारा समय: बताया जाता है कि सालीचौका स्टेशन पर जब ट्रेन थोड़ी देर के लिए रुकी तो सवार यात्री यह समझते रहे कि किसी वजह से यहां ट्रेन रोकी गई है। लेकिन जब समय अधिक लगा और ट्रेन बढ़ने के आसार नहीं दिखे तो कई बोगियों में सवार यात्री उतर आए। कुछ ने अपने ढोल निकाल लिए उन्हें बजाना शुरू कर दिया तो कुछ ने भजन-गीत गाते हुए समय गुजारा। बड़ी संख्या में ट्रेन में सवार यात्री रेलवे लाइन के किनारे घूमते रहे और जब गाडरवारा से इंजन आया तो सभी ने राहत की सांस ली और वापस ट्रेन में सवार हो गए।

……………...

भारत दर्शन ट्रेन के इंजन में खराबी आई थी इसलिए वह सालीचौका में करीब तीन घंटे रुक गई थी। मालगाड़ी के इंजन से उसे रवाना कराया गया। इस वजह से पिपरिया में इंटरसिटी को एक घंटा रोक दिया गया था।

- हनुमान सिंह, स्टेशन अधीक्षक गाडरवारा

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close