रायसेन, नवदुनिया प्रतिनिधि। जिला मुख्यालय से करीब सौ किमी दूर आदिवासी अंचल प्रतापगढ़ जैथारी के पास ग्राम खमरिया पौड़ी में शुक्रवार देर रात बच्चों के बीच हुए मामूली विवाद ने अलग- अलग समुदाय के दो पक्षों के बीच हिंसक संघर्ष का रूप ले लिया। दोनों पक्षों के लोग लाठी, कुल्हाड़ी से प्रहार करने लगे। एक पक्ष के लोगों ने गोली चला दी। जिससे राजू आदिवासी नामक व्यक्ति की मौत हो गई। वहीं एक अन्य गम्भीर रूप से घायल हुआ है। इस उत्‍पात के दौरान कुछ लोगों ने दुकान व मोटर साइकिलों में आग लगा दी। काफी देर तक दोनों पक्षों के पुरुषों, बच्चों व महिलाओं के बीच हिंसक संघर्ष जारी रहा। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने घायलों को एम्बुलेंस से सरकारी अस्पताल पहुंचाया। गांव में पुलिस बल पहुंचने के बाद ग्रामीणों के बीच संघर्ष थम गया। एहतियात के तौर पर शनिवार को सुबह चार थानों का पुलिस बल तैनात किया गया है। विधायक रामपाल सिंह राजपूत, आईजी दीपिका सूरी, डीआईजी जगत सिंह राजपूत, कलेक्टर अरविंद कुमार दुबे, एसपी विकास कुमार शाहवाल, एएसपी अमृत मीणा सहित अनेक पुलिस व प्रशासन के अधिकारी गांव में मौजूद हैं। पुलिस ने दोनों पक्षों के कुछ लोगों पर मामला दर्ज करते हुए हिरासत में लिया है। पुलिस अधीक्षक शाहवाल ने बताया है कि स्थिति नियंत्रण में है। घायलों का सिलवानी शासकीय अस्पताल में उपचार चल रहा है। कुछ घायलों को भोपाल के हमीदिया अस्पताल रेफर किया गया है। एक व्यक्ति की मौत हुई है। गांव के अलावा अस्पताल में भी पुलिस बल तैनात है। बीस लोगों को हिरासत में लिया गया है।

आरोपितों के चार मकान ढहाए

घटना के बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए जेसीबी से आरोपितों के चार मकान ढहा दिए हैं।

हमीदिया में सीएम शिवराज घायलों से मिले, हालचाल पूछा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार शाम को भोपाल के हमीदुया अस्पताल पहुंचे। उन्होंने घायलों का हालचाल पूछा। मृतक राजू आदिवासी के परिजनों को पांच लाख, गम्भीर घायल को दो लाख तथा अन्य सामान्य घायलों को 50- 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।

पुलिस की होली निरस्त

शनिवार को पुलिस अधीक्षक निवास पर होली मिलन समारोह आयोजित किया जाना था। लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में उपद्रव होने के कारण पुलिस की होली का कार्यक्रम निरस्त कर दिया गया है।

आदिवासी बहुल क्षेत्र है प्रतापगढ़

सिलवानी तहसील का प्रतापगढ़ जैथरी इलाका आदिवासी बहुल है। यहां प्राचीनकाल में गोंड शासन रहा है।

विधायक लगवाते हैं मेला

क्षेत्रीय विधायक रामपाल सिंह पिछले तीन दशक से यहां हर वर्ष दीपावली की दूज पर आदिवासी मेला लगवाते हैं। आसपास के करीब 15 आदिवासी गांवों के लोग यहां एकत्र होते हैं।

विधायक ने गांव में डेरा डाला

विधायक सिंह ने गांव में पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया। शांति व्यवस्था के लिए सुरक्षा के इंतजाम करने व उपद्रव करने वालों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करने के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close