-जिले की दो सिंचाई परियोजनाओं से नदियों के किनारे बसे गांव होते हैं प्रभावित

राजेश शर्मा

राजगढ़ (नवदुनिया प्रतिनिधि)।

बारिश शुरू होने के साथ ही नदियों के किनारे बसे हुए गांवों के सामने भी अब पूरी बारिश के दौरान चुनौतियां रहेंगी। मोहनपुरा एवं कुंडालिया बांध से कुल 64 गांव प्रभावित रहेंगे। जहां के हजारों लोगों को पंचायतों के माध्यम से मुनादी एवं एसएमएस के माध्यम से सूचना करते हुए अलर्ट किया जाएगा, ताकि नदियों में पानी आने के दौरान ग्रामीण पूरी तरह से सजग रहे एवं नदियों के किनारे न जाए।

उल्लेखनीय है कि 3800 करोड़ रुपये की लागत से बनकर तैयार हुई मोहनपुरा सिंचाई परियोजना एवं करीब 3400 करोड़ रुपये की लागत से बनकर तैयार हुई कुंडालिया सिंचाई परियोजना में गत वर्ष बांध में काफी पानी रोक लिया था। ऐसे में इस बार फिर से पानी रोका जाएगा। जिसके चलते बारिश के दौरान कई बार दोनों बांधों के गेट खोलना तय है। क्योंकि बड़ी मात्रा में फिलहाल बांधों में पानी है। जिसके कारण बारिश में बांधों के गेट खोले जाना तय है। ऐसे में करीब 64 गांव के हजारों लोग प्रभावित होना है। दोनों बांधों के गेट खोलने के पहले नदियों के किनारे बसे 64 गांवों के हजारों लोगों को मुनादी व वाट्स एप पर मैसेज के माध्यम से सजग किया जाएगा।

मोहननपुरा बांध से प्रभावित होंगे 30 गांव, पटवारी करेंगे सजगः

नेवज नदी के ऊपर बने माोहनपुरा बांध से नेवज नदी किनारे बसे करीब 30 गांव प्रभावित होंगे। गेट खोलने के साथ ही नेवज नदी से सटे हुए 30 गांव व जिला मुख्यालय राजगढ़ के लिए अलर्ट जारी किया जाएगा। क्योंकि जैसे ही बांध के अधिक गेट खोले जाएंगे या फिर एक साथ अधिक पानी निकाला जाएगा तो सबसे पहले राजगढ़ का पुराना बस स्टैंड क्षेत्र प्रभावित होगा। यहां पर पानी भराना तय है। इसके अलावा राजगढ़ से आगे की और पानी के बहाव के दौरान नदी के आसपास बसे करीब 30 गांव प्रभावित होंगे। जहां के निवासियों को मोहनपुरा परियोजना द्वारा पटवारियों के माध्यम से सजग किया जाएगा। पटवारियों द्वारा पंचायत सचिव के माध्यम से गांवों में मुनादी कराई जाएगी।

कुंडालिया से प्रभावित होंगे 34 गांवः

कालीसिंध नदी पर बने कुंडालिया बांध के बनने से कालीसिंध नदी किनारे बसे 34 गांव पूरी तरह से प्रभावित होंगे। इन 34 गांवों में 19 गांव राजगढ़ जिले के रहेंगे, जबकि 15 गांव आगर जिले के हैं। यहां पर गेट खोलने की स्थिति में परियोना के अधिकारियों द्वारा संबंधित क्षेत्रों के वाट्स एप ग्रुपों में मैसेज प्रसारित कर लोगों को अलर्ट किया जाएगा। इसके अलावा प्रशासन के माध्यम से पटवारियों व सचिवों के जरिए गांवों में मुनादी कराई जाएगी। खास बात यह है कि यहां से गेट खोलने के दौरान परियेजना के अधिकारियों को राजगढ़ के अलावा आगर जिले के प्रशासन को भी सजग रहने के लिए सूचित किया जाएगा।

बांध के गेट खोलने की स्थिति में गांवों में पटवारियों के माध्यम से सूचना दी जाएगी, ताकि नागरिक नदी से दूर रहे व उसमें उतरे नहीं। साथ ही अधिकारियों को भी हम अवगत कराएंगे।

- अशोक दीक्षित, परियोजना प्रबंधक मोहनपुरा बांध।

कुंडालिया बांध के गेट खोलने के दौरान ग्रामीणों को एसएमएस व मुनादी के माध्यम से अलर्ट करेंगे। राजगढ़ के 19 व आगर जिले के 15 गांव प्रभावित होंगे।

- एमके सराफ, ईई कुंडालिया परियोजना।

मोहनपुरा बांध

वाटर लैब वर्तमान में-390.75

कुल क्षमता-396

कुंडालिया

वाटर लैबल वर्तमान में-393

कुल क्षमता-400

बारिश की स्थिति

तहसील-बारिश-गत वर्ष

जीरापुर-202.0-197.8

खिलचीपुर-131.2-244.0

राजगढ़-139.0-150.3

ब्यावरा-303.8-215.8नरसिंहगढ़-349.0-111.0

सारंगपुर-166.7-394.4

तहसील-246.3-167.4

कुल-219.7-211.5

बारिश मिली मीटर में

प्रभावित गांव

-मोहनपुरा बांध से राजगढ़ जिले के -30

-कुंडालिया बांध से राजगढ़ जिले के-19

-कुंडालिया बांध से आगर जिले के -17

फोटो 0707 आरएजे 001 राजगढ़। मोहनपुरा बांध के भरने के बाद खुलते हैं गेट। फाइल फोटो।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close