राजगढ़ जिले की डिप्‍टी कलेक्‍टर Priya Verma के नाम से Fake twitter Account चल रहा है। खुद प्रिया ने अपने ऑफिशियल फेसबुक पेज Priya Verma Dy. Collector से सार्वजनिक रूप से पोस्‍ट करते हुए इसकी जानकारी लोगों को दी है। उन्‍होंने लोगों से अपील की है कि यह एक फर्जी अकाउंट है, इससे सतर्क रहें। यह मेरा नहीं है। मालूम हो कि प्रिया वर्मा गत जनवरी में देश भर में चर्चाओं में आ गईं थीं। राजगढ़ में CAA के समर्थकों से हुई उनकी झड़प के बाद घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था।

कौन हैं प्रिया वर्मा, ऐसा रहा है करियर

प्रिया इंदौर जिले के गांव मांगलिया की रहने वाली हैं। वर्ष 2014 में उन्‍होंने MPPSC (मध्‍यप्रदेश लोक सेवा आयोग) की परीक्षा पास की थी और इसके बाद उनकी पोस्टिंग उज्‍जैन की केंद्रीय भैरवगढ़ जेल में जेलर के रूप में हुई। यहां उन्‍होंने 6 महीने कार्य किया। इसके बाद वर्ष 2015 में उनकी नियुक्ति DSP के रूप में हुई। इस समय उनकी आयु 21 साल थी। इस उपलब्धि के चलते वे तब भी मीडिया में चर्चा का केंद्र बनी थीं। अखबारों में उनकी कम उम्र में बड़ा पद पाने की उपलब्धि को लेकर लेख लिखे गए थे।

यह है फर्जी अकाउंट

प्रदेश में चौथी रैंक लाकर बनीं डिप्‍टी कलेक्‍टर

इसके बाद उनका हौसला बढ़ा और उन्‍होंने आगे भी प्रयास जारी रखा। आखिर उनकी मेहनत रंग लाई और डिप्‍टी कलेक्‍टर वेटिंग लिस्‍ट में उनका नाम आ गया। 2017 का साल उनके लिए बहुत खास रहा। इस साल वे पूरे प्रदेश में चौथी रैंक हासिल करके डिप्‍टी कलेक्‍टर बन गईं। उनके साथ उनकी बचपन की दोस्‍त प्रियंका मिमरोट का भी डिप्‍टी कलेक्‍टर के पद पर चयन हुआ। वर्तमान में प्रिया मप्र के राजगढ़ जिले में डिप्‍टी कलेक्‍टर के रूप में पदस्‍थ हैं।

यह थी घटना जिससे प्रिया चर्चा में

मप्र के राजगढ़ में धारा 144 लागू होने के बावजूद रविवार को यहां भाजपा कार्यकर्ताओं ने CAA नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में एक रैली निकाली। तभी वहां प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच नोंकझोंक हो गई। बात तब बढ़ गई जब मौके पर मौजूद प्रिया वर्मा ने कथित रूप से एक कार्यकर्ता को तमाचा जड़ दिया। इसके बाद मामला तूल पकड़ गया। उसी भीड़ में से एक प्रदर्शनकारी ने प्रिया के बाल खींच डाले। मौके पर अफरा-तफरी मच गई और पुलिस को भीड़ को तितर-बितर करना पड़ा।

वीडियो सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

घटना के एक दो वीडियो समाचार एजेंसियों से लेकर सोशल मीडिया तक, हर जगह वायरल हो रहे हैं। इसके बाद से ही प्रिया वर्मा को सोशल मीडिया पर खूब सर्च किया जा रहा है। कुछ लोग उनके रवैये का समर्थन कर रहे हैं तो कुछ लोग विरोध जता रहे हैं। चूंकि मामले में राजनीति शुरू हो गई है, ऐसे में प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट करके प्रिया व प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा है।

यह है फैमिली बैकग्राउंड

प्रिया वर्मा इंदौर जिले के गांव मांगलिया के एक मध्‍यमवर्गीय परिवार से हैं। बचपन से उनका सपना प्रशासनिक अधिकारी बनना ही था, इसके चलते उन्‍होंने स्‍कूली शिक्षा पूरी करने के बाद सिविल सर्विस की तैयारी शुरू कर दी थी। हालांकि वे UPSC और CSE में सफल नहीं हो पाईं लेकिन MPPSC में उन्‍होंने लगातार प्रयास जारी रखे। आखिर उनकी मेहनत सफल हुई और वे चौथी रैंक के साथ अपनी ड्रीम जॉब में आ गईं।

सोशल मीडिया पर हैं फेमस, ढेर सारे फॉलोअर्स

प्रिया की सोशल मीडिया पर अच्‍छी खासी फैन फॉलोइंग है। अपने फेसबुक पेज पर वे अपनी एक्टिविटी के बारे में अपडेट करती रहती हैं। इसमें छुट्टी के दिन बागवानी से लेकर कार्यस्‍थल पर लिए गए एक्‍शन के फोटो व समरी शामिल होती है। वे कभी शायरी पोस्‍ट करती हैं तो कभी खुद के फोटो। उनकी हर पोस्‍ट को उनके फॉलोअर्स पसंद करते हैं और रीएक्‍ट करते हैं।

यू-ट्यूब पर देती हैं Exam के Tips

एक मोटिवेशनल स्‍पीकर के रूप में भी ख्‍यात हैं। यू-ट्यूब पर उनके कई वीडियोज हैं जिनमें वे युवाओं को परीक्षा की तैयारी को लेकर गाडड करती हैं। इसके कई सेशन के वीडियो ऑनलाइन उपलब्‍ध हैं। वे बताती हैं कि परीक्षा हॉल में जाने से पहले किन बातों पर फोकस किया जाए। OMR शीट को कैसे भरना है। इंक पेन किस तरह का होना चाहिये और सवालों के जवाब के लिए कैसे तैयारी करना है, हर छोटी-बड़ी चीज पर उनका ध्‍यान रहता है। कमेंट बॉक्‍स में ढेर सारे यूजर्स उन्‍हें शुक्रिया भी अदा करते हैं। वे मुख्‍य तौर पर MPPSC examination के बारे में गाइड करती हैं। वे UPSC Civil Services Examination की तैयारी कर रही हैं।

प्रकृति प्रेमी और घूमने की शौकीन

प्रिया अक्‍सर अपने फेसबुक पेज पर फोटो पोस्‍ट करती हैं। इनसे पता चलता है कि वे घूमने की शौकीन हैं और उन्‍हें प्रकृति से लगाव है। इतना ही नहीं, वे कभी साहित्यिक पेास्‍ट डालती हैं तो कभी अन्‍य अधिकारियों के मोटिवेशनल स्‍पीच के वीडियो की लिंक शेयर करती हैं।

#PriyaVerma

Posted By: Navodit Saktawat

fantasy cricket
fantasy cricket