बीना (नवदुनिया न्यूज)। त्योहार के चलते ट्रेनों में सफर मुश्किल हो गया है। अप और डाउन की एक दर्जन से अधिक ट्रेनों में नो रूम (जगह नहीं) की स्थिति है। इसके अलावा अधिकांश ट्रेनों में वेटिंग 150 से अधिक हैं। कुछ ट्रेनों में वेटिंग 200 तक पहुंच गई। टिकट कंफर्म न होने के बाद भी यात्रियों को मजबूरी में ट्रेन में खड़े होकर सफर करना पड़ रहा है। परेशान हो रहे यात्रियों ने रेलवे से रक्षा बंधन स्पेशल ट्रेनें चलाने की मांग की है। आने वाले एक सप्ताह तक ट्रेनों में कंफर्म टिकट मिलने की उम्मीद नहीं है।

दरअसल कोरोना संक्रमण के कारण दो साल से सरकार ने कई तरह की पाबंदियां लगाकर रखीं थी। लेकिन इस सभी ट्रेनें चालू होने के साथ जाने में किसी तरह रोक नहीं है। इसके चलते लोग राखी के त्योहार पर अपने घर जा रहे हैं। लेकिन लोगों के सामने कंफर्म टिकट न मिलने का संकट खड़ा हो गया है। रेलवे बुकिंग आफिस से मिली जानकारी के मुताबिक ट्रेन क्रमांक 12138 फिरोजपुर केंट-छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस के बीच चलने वाली पंजाब मेल, वैष्णो देवी-पुणे के बीच चलने वाली ट्रेन क्रमांक 11078 झेलम एक्सप्रेस, पुणे से वैष्णो देवी के बीच चलने वाली 11077 झेलम एक्सप्रेस, नादेड़-अमृतसर के बीच चलने वाली ट्रेन क्रमांक 12715 सचखंड एक्सप्रेस, अमृतसर से नादेड़ के बीच चलने वाली 12716 सचखंड एक्सप्रेस, रामेश्वर से बनासर के बीच चलने वाली साप्ताहिक स्पेशल, ट्रेन क्रमांक 12155 रानी कमलापति- हजरत निजामुद्दीन, लोकमान्य तिलक टर्मिनस-वाराणसी के बीच चलने वाली ट्रेन क्रमांक 11071 कामायनी एक्सप्रेस, हजरत निजामुद्दी-रानी कमलापति वाली ट्रेन क्रमांक 12156 भोपाल एक्सप्रेस सहित एक दर्जन ट्रेनों में 16-18 अगस्त तक नो रूम की स्थिति है। इसका मतलब है कि इन ट्रेनों में वेटिंग टिकट नहीं मिलेगा।

200 तक पहुंट रही वेटिंग

ट्रेनों में भीड़ का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है क दिल्ली-मुंबई-दिल्ली की के बीच चलने वाली ट्रेनों में वेटिंग 200 तक पहुंच गई है। रिजर्वेशन कराने पर भी यात्रियों को कंफर्म टिकट नहीं मिल रहा है। लेकिन रक्षा बंधन पर घर जाने के चक्कर में लोग टिकट कंफर्म न होने के बाद भी ट्रेनों में सफर कर रहे हैं। बड़ी संख्या में लोग सीट न मिलने से सैकड़ों किलोमीटर का सफर ट्रेन में नीचे बैठकर कर रहे हैं। वाणिज्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि आने वाले 15 दिन तक ट्रेनों में आसानी से टिकट नहीं मिलेगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close