शहडोल, नईदुनिया प्रतिनिधि। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर मंडल रेल प्रबंधक प्रवीण पाण्डेय ने बुधवार को शहडोल रेवले स्टेशन में एक-एक कार्यालय एवं कालोनी में जाकर निरीक्षण किया।जहां कमी दिखी उसको लेकर मौके पर ही संबंधित विभागों के अधिकारियों की क्लास ली और चेतावनी देते हुए कहा कि सुविधाओं को ठीक करें।आपका काम ही यही है कि व्यवस्थाओं को दुरुस्त रखें। एक दिवसीय दौरे में डीआरएम बिलासपुर से शहडोल तक विशेष ट्रेन विंडो से निरीक्षण करते हुए पहुंचे। निरीक्षण के दौरान कैरिज विभाग शहडोल के एक कर्मचारी की कार्य के दौरान अमलाई स्टेशन में हार्ट अटैक से मृत्यु होने की सूचना मिलते ही पहले अमलाई गए और संवेदना व्यक्त करते हुए मृतक नारेंद्र मिश्रा के स्वजनों को तत्काल मदद करने का निर्देश दिया।अमलाई से आने के बाद सभी विभागों के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर दिशा निर्देश जारी किया गया। इसके बाद एकल मान्यता प्राप्त संगठन रेलवे मजदूर कांग्रेस शाखा शहडोल के प्रतिनिधियों में संयुक्त महामंत्री एवं सीआईसी प्रभारी लक्ष्मण राव और शाखा सचिव बालकृष्ण बंगारी के नेतृत्व में शाखा पदाधिकारी अध्यक्ष सीएन सिंह, एचआर शर्मा, दीपक बाक्ची, अनुप सोनटके, राममिलन यादव अनील सिंह,सन्टू कुमार ने मंडल रेल प्रबंधक को रेलवे कर्मचारी एवं रेलवे कालोनी की समस्याओं के निराकरण लिए 16 सूत्रीय ज्ञापन दिया गया। डीआरएम पे ज्ञापन पर बिंदुबार चर्चा करके निराकरण का निर्देश दिया गया।इनके अलावा और दूसरे संगठनों ने भी ज्ञापन दिया।डीआरएम में आने के कारण स्टेशन परिसर चकाचक रहा और सभी जगह अनुशासन दिखाया गया। डीआरएम में स्टेशन परिसर,कार्यालयों के अलावा कालोनियों में घूमते रहे और देर साम तक निरीक्षण चलता रहा।

-लिफ्ट का प्रस्ताव तैयार, बस लगना है

स्टेशन प्रबंधक कार्यालय के बैठक रुप में मीडिया से बातचीत करते हुए डीआरएम ने कहा कि उपयोगिता के अनुसार हम सुविधाओं को ठीक कर रहे है।यात्री ट्रेनों से तीन गुना गुड्ड ट्रेन चलती है और इनको निकालना जरुरी है,क्योंकि इस क्षेत्र में इनसे कोयला निकलता है। यहां अर्थव्यवस्था भी इस पर निर्भर है,इसीलिए हम तीसरी लाइन पर काम कर रहे हैं।कोयला को भेजना जरुरी है, इसीलिए तीसरी लाइन बना रहे है। काफी काम भी हो गया है।डीआरएम ने कहा कि दुर्घटनाएं कम हो और सुरक्षा बनी रहे इसकों ध्यान में रखकर काम करते हैं।एेसे में कई बार यात्री गाड़िया लेट हो जाती हैं।आज से एक साल बाद यह स्थिति होगी कि और गुड्स ट्रेन या मेल ट्रेने चलेंगी और समय से चलेंगी। चीजे बन रही है, समय लगेगा।आवासों को मे देखूंगा और जहां समस्या होगी सुधार किया जाएगा। हमने शहडोल स्टेशन में लिफ्ट लगाने का प्रस्ताव बनाया है, जल्दी लगाने की तैयारी है। कोच शेड सहित अन्य सुविधाओं पर भी काम किया जाएगा। यहां जो भी समस्याएं हैं उनको देखूंगा और बेहतर किया जाएगा।नागपुर तक ट्रेन चलाने के सवाल को डीआरएम ने टाल दिया।

टीटी स्टाफ के वर्तमान रोस्टर लगाई रोक

रेलवे मजदूर कांग्रेस शाखा के द्वारा दिए गए ज्ञापन में रेलवे हास्पिटल में स्टाफ की कमी दूर करने एवं अन्य सुविधाएं बढ़ाने की मांग की गई।रेलवे कर्मचारियों का बिजली किराया मासिक बिल रीडिंग करने, रेलवे कालोनी के खराब सड़क पानी के समस्याओं को दूर करने का मांग उठाई गई। रेलवे आवासों में रंगाई का काम तत्काल कराने, कालोनी की सफाई व्यवस्था के लिए नई व्यवस्था चालू कर ट्रैक्टर प्रतिदिन संचालित करने की मांग की गई। शहडोल रेलवे खेले मैदान में तत्काल स्टेट ड्रेस चेंजिंग रूम बनाने बनाने मांग की गई। रेलवे टीटी स्टाफ के कर्मचारियों के वर्तमान रोस्टर के कारण टीटी स्टाफ को तीन दिन के बाद हेड क्वार्टर आने पर मजदूर कांग्रेस ने आपत्ति दर्ज कराई, जिस पर मंडल रेल प्रबंधक में तत्काल रोक लगाने का आदेश जारी किया। बैकुंठपुर,बिजुरी,शहडोल,अनूपपुर,कोतमा मौहरी,उमरिया रेल कालोनी के खस्ताहाल सड़कों को तत्काल बनाने की मांग उठाई गई। महिला रेल कर्मचारियों के लिए है हर कार्यालय में महिला टायलेट बनाने की मांग रखी गई। ट्रैकमेंटेनर स्टाफ के लिए स्टोर टूल बाक्स बनाने की मांग की गई। रेलवे कालोनी के आवासों की खिड़की दरवाजे एवं मरम्मत कराने की भी मांग उठाई गई। रनिंग स्टाफ शहडोल के लिए साइकिल स्टैंड का विस्तार करना या बनाने की मांग रखी गई। कमर्शियल विभाग के पार्सल कर्मचारियों के आठ घंटा रोस्टर की मांग उठाई। ट्रेन लाइटिंग व लोकों मेंटेंनेंस स्टाफ के लिए कार्यालय का नवीनीकरण कराने की मांग उठाई गई।

-परिचालकों का लाइन बाक्स चालू कराया जाय

आल इंडिया गार्डस काउसिंल के शाखा सचिव विनोद यादव के नेतृत्व में भी डीआरएम को तीन सूत्रीय मांगो का ज्ञापन सौंपा गया।ज्ञापन में बताया कि शहडोल परिचालकों का लाइन बाक्स तीन वर्ष से बंद हैं।लगातार अधिकारियों को अवगत कराने के बाद भी चालू नहीं किया जा रहा है।सुरक्षा के हिसाब से बाक्स चालू करना आवश्य हैं।मांग किया गया कि इस व्यवस्था को शीघ्र चालू कराया जाय।इसी तरह न्यू कटनी जंक्शन हेड क्वाटर में शहडोल के परिचालकों का विश्राम पूरा होने के बावजूद भी दिन के समय ड्यूटी या टीओ नहीं दिया जा रहा है। मांग की गई कि जैसे ही गार्ड का विश्राम पूरा हो जाय तो उसके बाद उनकी ड्यूटी लगाई जाय।इसके साथ ही ट्रेन में कार्य के दाैरान वाकी-टाकी की उपलब्ध कराया जाए।अभी तक 40 से 50 प्रतिशत शहडोल चालक व परिचालक के पास वाकी-टाकी नहीं हैं।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close