शिवपुरी। शहर के मेडिकल कॉलेज में फार्मासिस्ट की ग्वालियर में मंगलवार को इलाज के दौरान मौत हो गई। 31 मार्च को तबीयत बिगड़ने के बाद इलाज के लिए ग्वालियर ले जाया गया था, जहां आज उनकी मौत हुई।

जानकारी के अनुसार शिवपुरी के मेडिकल कॉलेज में पदस्थ फार्मासिस्ट वंदना तिवारी की 31 मार्च को तबीयत बिगड़ गई थी, जिसके बाद 1 अप्रैल को ग्वालियर ले जाया गया था जहां उनका इलाज चल रहा था। दो दिन पहले कोमा में जाने के बाद वंदना ने आज अंतिम सांस ले ली। इस बारे में शिवपुरी मेडिकल कॉलेज की डीन डॉ. ईला गुजरिया का कहना है कि वंदना की ड्यूटी शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में लगी हुई थी। 31 को उनके पति का फोन आया कि वंदना की तबीयत बिगड़ गई है जिसके बाद वे उसे ग्वालियर ले गए थे। बाद में इलाज के लिए बिरला में भर्ती कराया था। आज यह जानकारी मिली है कि वंदना की मौत हो गई। इस बात से हमें धक्का लगा है। जब उनसे पूछा गया कि क्या वंदना की ड्यूटी कोरोना में लगी थी। वे अपने तीन साल के बच्चे को अलग रखकर ड्यूटी दे रहीं थी। डीन गुजरिया ने बताया कि वंदना की ड्यूटी कोरोना में नहीं लगी थी। वे मेडिकल कॉलेज में ही छात्राओं की देखरेख में थी। इसी बीच 31 को ब्रेन हेमरेज हुआ जिसके बाद उन्हें ग्वालियर ले गए। अब से दो दिन पहले वंदना कोमा में चली गई और बाद में उसकी मौत हुई। हालांकि मेडिकल कॉलेज की डीन ने इन सभी बातों से इंकार किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags