उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। यूनाइटेड इंटरनेशनल ह्यूमन राइट ट्रस्ट (मानव अधिकारी संस्थान) का सदस्य बनाने के नाम हजारों रुपये ठगने वाली महिला के खिलाफ सोमवार को महिला थाने में दो केस और दर्ज हुए हैं। दोनों मामलों में आरोपित महिला ने खुद को मानव अधिकार आयोग का सदस्य बताकर महिलाओं को उनके पारिवारिक विवाद को लेकर धमकाया और हजारों रुपये ऐंठ लिए थे। पुलिस के अनुसार वह पीड़ित महिलाओं को अपने घर बुलाकर काउंसलिंग के नाम पर धमकाती थी।

महिला पुलिस ने बताया कि आदर्श नगर निवासी शिरीन हुसैन पत्नी शेख अमन निवासी आदर्श नगर के खिलाफ सोमवार को पंवासा निवासी वर्षा नामक महिला ने शिकायत की थी कि उसका पति सचिन विश्वकर्मा से विवाद चल रहा था। वर्षा का कहना है कि मार्च में उसे पता चला था कि शिरीन शेरी माधव अधिकार आयोग की सदस्य है तथा उसकी मदद कर सकती है तो उसने फोन पर बात की थी। इसके बाद शिरीन ने उसे अपने आदर्श नगर स्थित घर बुलाया और वहां आवेदन के नाम पर 500 रुपये ले लिए। इसके बाद 17 मार्च को शिरीन उसके पति सचिन के साथ उसके घर आई और धमकाया कि उसका पति अच्छा आदमी है। तेरे को इसके साथ ही रहना पड़ेगा। शिरीन ने खुद को मानव अधिकार की अध्यक्ष के साथ-साथ वकील भी बताया और कहा कि मेरी पुलिस में अच्छी पकड़ है। इसके बाद वर्षा ने महिला थाने जाकर पति, सास, ससुर, देवर के खिलाफ दहेज प्रताड़ना व मारपीट की शिकायत की थी। केस दर्ज करवाने के बाद से ही शिरीन ने वर्षा को कई बार फोन लगाकर धमकाया और 20 हजार रुपये की मांग की। इससे महिला ने डरकर उसे 2 अप्रैल को 20 हजार रुपये दे दिए थे। मीडिया में शिरीन के खिलाफ खबर देखकर महिला ने सोमवार को उसके खिलाफ शिकायत की थी। इस पर पुलिस ने धारा 387, 419, 506 के तहत केस दर्ज किया है।

एक और शिकायत

इसी प्रकार मक्सी रोड स्थित ग्राम ब्यावरा की रहने वाली महिला शहनाज ने भी शिकायत की है कि उसकी बेटी व दामाद के आपसी विवाद के बाद बेटी ने महिला थाने में शिकायत की थी। जिसकी जानकारी शिरीन को लगी तो उसने फोन लगाकर उसे मानव अधिकारी आयोग की अध्यक्ष बताते हुए धमकाया था। महिला पुलिस ने शहनाज की बेटी व उसके ससुराल वालों की काउंसलिंग करवाई थी। इसके बाद दोनों पक्ष राजी हो गए थे और साथ रहने की सहमति दी थी। मामले को लेकर शिरीन ने शहनाज से जबरन 20 हजार रुपये की मांग की थी। डरकर महिला ने उसे 5 हजार रुपये दे दिए थे। इसके बाद भी शिरीन उसे धमका रही थी। पुलिस ने शहनाज की शिकायत पर शिरीन के खिलाफ केस दर्ज किया है।

यह था पूरा मामला

शिरीन हुसैन ने यूनाइटेड इंटरनेशनल ह्यूमन राइट ट्रस्ट (मानव अधिकारी संस्थान) के फर्जी लेटरपैड छपवाकर सदस्य बनाए गए थे। शिरीन ने बुरहानपुर के करीब 30 लोगों से संस्था का सदस्य बनवाने व आइडी कार्ड देने के नाम पर 11-11 हजार रुपये ले लिए और संस्था की अध्यक्ष मधु यादव के फर्जी हस्ताक्षर कर उन्हें कार्ड भी वितरित कर दिए। इसकी जानकारी राष्ट्रीय मानव अधिकार संगठन संस्था की अध्यक्ष मधु यादव को लगी तो उन्होंने उज्जैन पहुंचकर नागझिरी थाने में शिरीन के केस दर्ज करवाया था। पुलिस ने शनिवार को शिरिन को गिरफ्तार कर रविवार को कोर्ट में पेश किया था, जहां से उसे चार दिन के पुलिस रिमांड पर सौंपा गया है।

अधिकारियों के साथ फोटो खींचवाकर लगा रखे

शिरीन ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ फोटो खींचवाकर अपने कार्यालय पर लगा रहे थे। इन्हें दिखाकर वह लोगों पर रौब झाडतती थी। फोटो देखकर लोग उसे प्रभावशाली मानते थे और रुपये दे देते थे।

बैंक खाते की डिटेल खंगाल रही पुलिस

पुलिस शिरीन के बैंक खातों की डिटेल खंगालने में जुटी है। बताया जा रहा है कि उसने धोखाधड़ी कर काफी रुपये कमा लिए हैं। इससे उसने मकान व कार खरीद ली थी। इसके अलावा वह उसके काम के लोगों व पुलिसकर्मी को पार्टी देती थी। इसके फोटो व वीडियो मिलना बताया जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local