- नई दिल्ली-इंदौर एक्सप्रेस की औचक जांच में अधिक मिली राशि

- यात्रियों से बगैर टिकट यात्रा के एवज में की वसूली

उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पश्चिम रेलवे की विजिलेंस टीम ने नई दिल्ली- इंदौर एक्सप्रेस में औचक निरीक्षण किया। इस दौरान टिकट परीक्षक के पास पांच हजार रुपये अधिक मिले थे। जिसका लेखा टिकट परीक्षक ने नहीं दिया था। प्राथमिक जांच में सामने आया है कि रुपये टिकट परीक्षक द्वारा यात्रियों से बिना टिकट यात्रा करने के एवज में वसूल किया गया था।

रेलवे सूत्रों ने बताया कि बुधवार को पश्चिम रेलवे की विजिलेंस टीम ने गाड़ी संख्या 12416 में नागदा से इंदौर के बीच औचक जांच की थी। जिसमें टिकट परीक्षक सुनील के पास पांच हजार रुपये अधिक मिले थे। इन रुपयों के बारे में टिकट परीक्षक ने लेखा-जोखा घोषित नहीं किया था। प्राथमिक जांच में अधिकारियों को पता चला है कि टिकट परीक्षक द्वारा यात्रियों से बिना टिकट यात्रा करने के एवज में वसूल किया गया है। रुपये को जांच के दौरान रेलवे आय में जमा करवाया गया है। रेलवे सूत्रों ने बताया कि बुधवार को पश्चिम रेलवे की विजिलेंस टीम ने गाड़ी संख्या 12416 में नागदा से इंदौर के बीच औचक जांच की थी। जिसमें टिकट परीक्षक सुनील के पास पांच हजार रुपये अधिक मिले थे। इन रुपयों के बारे में टिकट परीक्षक ने लेखा-जोखा घोषित नहीं किया था। प्राथमिक जांच में अधिकारियों को पता चला है कि टिकट परीक्षक द्वारा यात्रियों से बिना टिकट यात्रा करने के एवज में वसूल किया गया है। रुपये को जांच के दौरान रेलवे आय में जमा करवाया गया है।

- रेलवे की विजिलेंस टीम समय-समय पर ट्रेनों में जांच करती रहती है। किसी टिकट परीक्षक के पास अधिक रुपये मिलने पर मुख्यालय से जानकारी आती है। जिसके बाद कार्रवाई की जाती है।

- विनित गुप्ता, डीआरएम रतलाम मंडल

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close