बम निरोधक दस्ते और डाग स्क्वाड ने चप्पा-चप्पा खंगाला

उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द के स्वागत के लिए उज्जैन तैयार है। प्रोटोकाल अनुरूप उनकी सुरक्षा और सुविधाओं पर शासन-प्रशासन ने दो करोड़ से ज्यादा रुपये खर्च कर डाले हैं। सुरक्षा को देखते हुए शहर की होटलों की सघन जांच की गई है। ड्रोन को भी प्रतिबंधित कर दिया गया है।

राष्ट्रपति के स्वागत के लिए हेलिपेड, सर्किट हाउस, कार्यक्रम स्थल- पंडित सूर्यनारायण व्यास संकुल हाल को पूरी तरह रिनोवेट कर दिया गया है। वे जिस मार्ग से गुजरेंगे उस पर डामर की नई परत चढ़ाई गई है। रोड डिवाइडर के बीच रखे गमलों पर चित्रकारी कराकर उनमें नए पौधे रोपे गए हैं।

बिजली के खंभों तक को पेंट कराया गया है। सुरक्षा में बाधा बन रहे 100 से अधिक पेड़ों की कटाई-छंटाई की गई है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस, पीएससी और पैरामिलिट्री फोर्स के साथ स्थानीय और केंद्रीय खुफिया एजेंसियों के अधिकारी तैनात कर दिए गए हैं। बम निरोधक दस्ते और डाग स्क्वाड ने चप्पा-चप्पा खंगाला और रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, होटल एवं धर्मशालाओं की सघन तलाशी ली। प्रशासन ने हेलिपेड, सर्किट हाउस, कालिदास संस्कृत अकादमी और महाकाल मंदिर से दो किलोमीटर की दूरी में ड्रोन उड़ाना प्रतिबंधित कर दिया है।

पूर्वाभ्यास किया, देवास रोड पर लगा जाम... हजारों लोग हुए परेशान

राष्ट्रपति की डमी फ्लीट का शनिवार दोपहर पूर्वाभ्यास हुआ। तकरीबन 35 वाहनों का काफिला प्रस्तावित मार्ग से निकला। इस दौरान देवास रोड पर नागझिरी चौराहे से मारूति शोरूम तक और उद्योगपुरी ब्रिज तक वाहनों का लंबा जाम लग गया। तकरीबन एक घंटा लोग इस जाम में फंसे रहने से परेशान हुए। राष्ट्रपति कैसे महाकाल मंदिर में प्रवेश करेंगे, पूजन करेंगे और कैसे पंडित सूर्यनारायण व्यास संकुल हाल में होने वाले अखिल भारतीय आयुर्वेद महासम्मेलन के उद्घाटन समारोह में सम्मिलित होंगे, इसकी रिहर्सल संभागायुक्त संदीप यादव को डमी राष्ट्रपति बनाकर की गई। फ्लीट रिहर्सल से पहले हेलिकाप्टर ने हेलिपेड पर टच एंड गो का अभ्यास किया।

ये है राष्ट्रपति का कार्यक्रम

राष्ट्रपति सुबह 9.30 बजे उज्जैन आएंगे। 10 बजे कालिदास संस्कृत अकादमी के पंडित सूर्यनारायण व्यास संकुल में होने वाले अखिल भारतीय आयुर्वेद महासम्मेलन के अधिवेशन के उद्घघाटन सत्र में सम्मिलित होंगे। घंटेभर रुककर यहां से महाकालेश्वर मंदिर अभिषेक-पूजन करने जाएंगे। तकरीबन 47 मिनट मंदिर में रुकने के बाद सर्किट हाउस आएंगे और लंच कर कुछ विशेष सूचीबद्ध लोगों से मुलाकात करेंगे।

राष्ट्रपति का उज्जैन आना आयुर्वेद चिकित्सकों, शिक्षकों एवं मरीजों के लिए वरदान

राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द का उज्जैन आना आयुर्वेद चिकित्सकों, शिक्षकों एवं मरीजों के लिए वरदान साबित होगा। कहा गया है कि उनके आगमन से प्रदेश में शासकीय आयुर्वेद विश्वविद्यालय की स्थापना का रास्ता खुलेगा। आयुर्वेद में भी इलाज का प्रोटोकाल लागू होगा। आयुर्वेद कालेज के शिक्षकों की वेतन विसंगति मिटेगी और जिलास्तर पर बनी आयुष विंग में चिकित्सकों एवं कर्मचारियों के पदों की संख्या बढ़ेगी।

उज्जैन आने वाले नौवें राष्ट्रपति होंगे कोविन्द

देश के 14वें राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द 29 मई को धर्मनगरी उज्जैन आ रहे हैं। वे उज्जैन आने वाले देश के नौवें राष्ट्रपति होंगे। उनके पहले क्रमशः प्रणब मुखर्जी, प्रतिभा पाटिल, केआर नारायणन, शंकरदयाल शर्मा, आर. वेंकटरमन, ज्ञानी जेलसिंह, डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन और डा. राजेंद्र प्रसाद आ चुके हैं।

यह भी जानिए

-राष्ट्रपति का त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरा रहेगा

- दो हजार पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे

- फ्लीट में चार एडवांस सपोर्ट एंबुलेंस होंगी, 150 से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मियों की तैनाती रहेगी

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close