उमरिया (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के पनपथा कोर रेंज में करीब 20 जंगली हाथियों के झुंड ने सोमवार को आतंक मचा दिया। देर शाम हाथियों ने ग्राम मझौली के खेतों में किसानों की फसलों को नष्ट कर दिया। हाथियों के कारण ग्रामीणों में अफरा-तफरी मच गई। हालांकि वन विभाग का अमला लोगों को और हाथियों को संभालने में जुटा रहा।

तीन घंटे यातायात रोका : हाथियों के खतरे को देखते हुए सतना-उमरिया रोड का यातायात रोक दिया गया। पनपथा मुख्य मार्ग पर बैरियर लगाए गए और वाहनों को काफी दूर रोक दिया गया। करीब तीन घंटे बाद यातायात बहाल हुआ।

झुंड में बंटे हाथी : पिछले तीन साल से बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में छत्तीसगढ़ और झारखंड से आए हाथियों के कई झुंड बने हुए हैं। बांधवगढ़ में 40 से ज्यादा जंगली हाथी सक्रिय हैं, जो अलग-अलग झुंड में घूमते रहते हैं।

छत्तीसगढ़ से आ रहे 60 से ज्यादा हाथी : हाथियों का एक और दल छत्तीसगढ़ से उमरिया की तरफ आ रहा है। इस दल में 40 से ज्यादा हाथी हैं और एक दूसरा 20 हाथियों का झुंड भी पीछे-पीछे आ रहा है। हाथियों का यह दल अनूपपुर जिले से होता हुआ उमरिया जिले तक पहुंच सकता है। वन विभाग का कहना है कि यदि ये हाथी अनूपपुर जिले के कोतमा से राजेंद्रग्राम की दिशा पकड़कर आगे बढ़ेंगे तो पुष्पराजगढ़ के जंगलों से होते हुए उमरिया जिले के घुनघुटी तक पहुंच जाएंगे। इस तरह यह एक नया खतरा सामने नजर आने लगा है। कोतमा विधायक सुनील सराफ ने भी खतरे से आगाह किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local