दमकती सुंदर त्वचा के लिए जरूरी है सही पोषण। अगर आपका शरीर भीतर से पूरी तरह स्वस्थ है तो त्वचा अपने आप चमकेगी। अपने भोजन में शामिल करें कुछ ऐसे विटामिन्स, फैट्‌स और अन्य पोषक तत्व जो खासतौर पर त्वचा की सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं।

त्वचा केवल शरीर का ऊपरी आवरण ही नहीं होती। यह बाहरी कणों, धूल, गंदगी आदि हानिकारक चीजों से शरीर की रक्षा करती है। यदि त्वचा स्वस्थ न हो तो इस पर होने वाले संक्रमण या तकलीफ शरीर में अन्य अंगों तक भी फैल सकते हैं। इसलिए त्वचा का पोषण बहुत जरूरी है। ताकि सुरक्षा कवच बरकरार रहे। इसके लिए जरूरी है

कुछ चीजों को डाइट में शामिल करना,जैसे- फैट्‌स भी जरूरी अगर आपकी डाइट में हेल्दी फैट्‌स की मात्रा बहुत

कम है तो इसका नतीजा त्वचा पर रूखेपन और झुर्रियों के रूप में दिखाई दे सकता है। पॉलीअनसैचुरेटेड और

मोनोअनसैचुरेटेड फैट्‌स पर खास ध्यान दें। इसके लिए ओमेगा थ्री फैटी एसिड्‌स सूखे मेवे, सीड्‌स (विभिन्न प्रकार के बीज) और अवाकाडो आदि को भोजन में शामिल करें। ये त्वचा को लचीला और नम बनाए रखने में मदद करते हैं। साथ ही त्वचा कैंसर के लिए जवाबदार रसायन को त्वचा तक पहुंचने से रोकते हैं। ये दिल की सेहत के लिए भी बहुत अच्छे होते हैं।

प्रोटीन का कमाल

भोजन द्वारा शरीर में गए विभिन्ना प्रोटीन को शरीर को अन्य प्रोटीन में बदलकर काम में लाता है। इसमें त्वचा के लिए बहुत महत्वपूर्ण कोलेजन और केराटिन भी शामिल हैं। इसी तरह मिलते हैं त्वचा को एंटीऑक्सीडेंट्‌स भी जो हानिकारक अल्ट्रावायलेट किरणों से होने वाले नुकसान से बचाव करते हैं।

विटामिन ए

त्वचा की ऊपरी और निचली दोनों परतों को इस विटामिन की दरकार होती है, यह सूर्य की नुकसानदायक किरणों से बचाव करता है। यह तेल ग्रंथियों को ठीक तरह से काम करने में मदद करता है और खरोंचों और या घावों को भरने में भी सहायता करता है। यह विशेषतौर पर तब और भी मददगार होता है जब आप किसी कारण से स्टेरॉइड्‌स का सेवन कर रहे होते हैं।

विटामिन सी

एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट जो नुकसानदायक फ्री रेडिकल्स से बचाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और कैंसर की आशंका को कम करता है। विटामिन सी की कमी से त्वचा पर आसानी से खरोंचें लगने की समस्या हो

सकती है और घाव भरने की प्रक्रिया बहुत धीमी हो जाती है।

विटामिन ई

एंटीऑक्सीडेंट्‌स के साथ ही एंटीइंफ्लेमेटरी गुण भी रखने वाला बहुत मददगार विटामिन है यह। कई कॉस्मेटिक उत्पादों में भी इसके होने का दावा किया जाता है। यह त्वचा में कसावट लाता है, झुर्रियां पड़ने की प्रक्रिया को धीमा

करता है, त्वचा के कैंसर से बचाव कर सकता है और त्वचा में दमक लाने में मदद करता है। विटामिन सी के साथ मिलकर विटामिन ई त्वचा की कोशिकाओं की दीवारों को मजबूत बनाने में भी सहायता करता है।

जिंक और सेलेनियम

त्वचा की सबसे बाहरी परत के लिए जिंक अधिक जरूरी होता है। यह किसी भी चोट के बाद घाव भरने में बहुत मदद करता है। यह भी एंटीऑक्सीडेंट्‌स से भरपूर होता है। जिंक की कमी एक्जीमा जैसी समस्या को जन्म दे सकती है। इसी तरह सेलेनियम भी एक खनिज है जो त्वचा की खासतौर पर सूरज की हानिकारक किरणों से रक्षा करता है। इसकी कमी से त्वचा कैंसर की आशंका बहुत बढ़ जाती है।

संतुलित रखें डाइट

अपने भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियां, अलसी, फैटी फिश, अंडे, ऑलिव ऑइल आदि का अच्छी मात्रा में समावेश

करें। आप चाहें तो एक बार चैकअप करवाकर अपनी त्वचा की स्थिति के हिसाब से पूरा डाइट चार्ट भी किसी

विशेषज्ञ से बनवा सकते हैं। जरूरी यह है कि इसे पूरे समय फॉलो किया जाए।

- भरत सिंघानिया, डर्मेटोलॉजिस्ट, रायपुर

Posted By: Sonal Sharma