Achyutananda Das Predictions: दुनिया में कई भविष्यवक्ता हुए हैं। बाबा वेंगा और नास्त्रेदमस की तरह भारत में एक संत थे। जिनका नाम अच्‍युतानंद दास था। अच्‍युतानंद भगवान जगन्नाथ के परमभक्त, कवि और भविष्यवक्ता थे। उनके काल को 1480 और 1505 के बीच का माना जाता है। उनके पिता का नाम दीनबंधु खुंटिया और माता का नाम पद्मावती था। उनके दादा गोपीनाथ जगन्नाथ मंदिर में मुंशी थे। अच्‍युतानंद दास का जन्म उड़ीसा के कटक जिले में तिलकाना गांव में हुआ था।

भविष्य पर लिखी 318 किताबें

कहा जाता है कि अच्‍युतानंद दास ने अपनी योग शक्ति के दम पर भविष्य मालिका को लिखा था। मालिका नाम से 21 लाख किताबे हैं। ये ग्रंथ जगन्नाथ पुरी के मठों, मंदिरों और महंतों के पास हैं। संत अच्‍युतानंद ने 318 पुस्तकें भविष्य पर लिखी है। इन बुक्स को अच्‍युतानंद मलिका कहा जाता है। भविष्य मालिका के अनुसार पृथ्वी तीन चरणों से गुजर रही है। पहला कलयुग का अंत, दूसरा महाविनाश और तीसरा नया युग का आगमन।

किसान खेती बंद कर देंगे

अच्‍युतानंद दास के भविष्यवाणियों के अनुसार किसान खेती का काम बंद कर देंगे। जंगली जानवर गांव और शहर पर हमला करेंगे। एक पिंड बंगाल की खाड़ी में गिरेगा। ओडिशा जलमग्न हो जाएगा।

धरती पर रहेगा अंधेरा

प्राकृतिक आपदाओं के कारण धरती पर सात दिनों तक अंधेरा रहेगा। अच्‍युतानंद के अनुसार यह घटना 2022 से 2029 के बीच होगी। तीसरे विश्वयुद्ध की शुरुआत शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करने के बाद होगी। तीसरा विश्वयुद्ध छह साल 6 महीने तक चलेगा।

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close