आज Balakot Strike को पूरा एक साल हो गया है, आज ही के दिन भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर बालाकोट में बने आतंकी ठिकानों को ध्वस्त किया था। सेना के इस शौर्य को एक साल हो गया है और इसकी पहली एनिवर्सरी पर वायुसेना चीफ RKS Bhadauria ने MIG-21 में उड़ान भरी। वायुसेना चीफ ने मिग की सवारी श्रीनगर में की जहां उनके साथ कमांडिंग ऑफिसर ग्रुप कैप्टन नजीर थे। भदौरिया के MIG-21 के साथ ही दो Mirage 2000 और Sukhoi-30MKI ने भी श्रीनगर एयरबेस से यह उड़ान भरी थी।

यह वही फायटर जेट्स हैं जिन्होंने बालाकोट में पाकिस्तानी आतंकियों पर मौत बरसाई थी। बालाकोट हमले की वर्षगांठ पर इस उड़ान का मकसद पाकिस्तान को सीधा संदेश देना था कि भारतीय सेना और वायुसेना पूरी तरह से मुस्तैद है। तीनों फायटर जेट्स की उड़ान के बाद एयरबेस पर लौटे

वायुसेना प्रमुख भदौरिया ने पाकिस्तान को दो टूक चेतावनी दी।

चीफ ऑफ एयर स्टाफ, एयर चीफ मार्शल RKS Bhadauria से मीडिया ने इस उड़ान का संदेश पूछा तो उन्होंने कहा, 'मैसेज बहुत साफ है कि यह यथास्थिति हमेशा नहीं रहने वाली है। अगर सीमापार से किसी हमले की कोशिश की गई तो उसका सीधा जवाब मिलेगा और यह जवाब बेहद मजबूत और करारा होगा।'

उन्होंने इस दौरान राफेल को लेकर भी बात की और कहा कि यह गेम चेंजर साबित होगा। जब यह हमारी इन्वेंटरी में शामिल दूसरे एयरक्राफ्ट के साथ होगा तो हमारी वायुसेना काफी अलग होगी।

वायुसेना चीफ जिस स्क्वॉड्रन के MIG-21 में उड़ान भरकर लौटे वो वहीं स्क्वॉड्रन है जिसमें विंग कमांडर अभिनंदन शामिल थे। वायुसेना चीफ ने कहा कि अभिनंदन और 51 Squadron ने वायुसेना की स्पिरिट दिखाई। उन पर हमें गर्व है।

बता दें कि इससे पहले पूर्व सेना प्रमुख बीएस धनोआ ने मीडिया से बात करते हुए बालाकोट अटैक एनिवर्सरी पर कहा कि काफी कुछ बदला है। हमने संदेश दिया कि हम घर में घुसकर मारेंगे फिर आप चाहे कहीं भी हो। अगर हम चाहते तो अपनी जमीन से भी हमला कर सकते थे लेकिन ऐसा नहीं किया। उन्हें लगता था कि हम पाकिस्तान में घुसकर कभी आतंकी कैंप्स को निशाना नहीं बना सकते लेकिन हमने ऐसा किया।

Posted By: Ajay Barve