रांची। मंदिरों में साईं प्रतिमा पूजन का लगातार विरोध होने के बीच पुरी के शंकराचार्य ने शुक्रवार को नया विवाद खड़ा कर दिया। उन्होंने रांची में पत्रकारों से बातचीत में कहा, मंदिरों में दलितों का प्रवेश निषिद्ध होना उचित है। इसे शास्त्र सम्मत बताते हुए शंकराचार्य ने समर्थन किया।

ज्योतिषबद्रिकाश्रम के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती की तर्ज पर पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने भी मंदिरों में साईं प्रतिमा पूजन को गलत ठहराया। उन्होंने कहा कि कल यदि कोई श्रद्धावश मेरी प्रतिमा मंदिर में स्थापित कर दे तो एक समय बाद लोग यही कहेंगे कि हमारे आराध्य राम-कृष्ण ऐसे ही रहे होंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना करते हुए कहा, देश में अब विकास करने वाले पीएम आए हैं, लेकिन उनके एक मंत्री नितिन गडकरी देश में अत्याधुनिक बूचड़खाना खोलना चाहते हैं। शंकराचार्य ने भाजपा को अपने भीतर बदलाव पर ध्यान देने की नसीहत दी।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags