जालंधर। पंजाब में कीटनाशक खरीद घोटाला व नरमे की बर्बाद फसल का उचित मुआवजा नहीं मिलने से खफा किसानों ने बुधवार से दो दिवसीय रेल रोको आंदोलन शुरू कर दिया। इस दौरान विभिन्न जिलों में जोरदार प्रदर्शन किया और जगह-जगह रेल ट्रैक जाम किया।

इस कारण दर्जन से अधिक ट्रेनें जहां-तहां खड़ी रहीं। इससे यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। किसान व मजदूर संगठन कृषि मंत्री तोता सिंह की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। इस दौरान सैकड़ों किसानों को हिरासत में भी लिया गया।

उधर अमृतसर के जंडियाला गुरु में बासमती की उचित कीमत नहीं मिलने व नवांशहर में गन्ना का भुगतान नहीं होने से खफा किसानों ने रेल ट्रैक पर धरना देते हुए आवागमन बाधित किया। किसानों से आंदोलन से विभिन्न रूट की 13 ट्रेनों को रद करना पड़ा और 6 ट्रेनों का रूट डायवर्ट किया गया। कम से कम बारह स्थानों पर रेल रोको प्रदर्शन हुए।

किसानों नेताओं का कहना है कि विभिन्न जगहों से पंजाब पुलिस ने 5000 के करीब किसानों को हिरासत में लिया है। प्रदर्शन में आठ किसान संगठन शामिल रहे। इनमें बीकेयू एकता (डकौंदा), बीकेयू (उगराहां), बीकेयू (क्रांतिकारी), किरती किसान यूनियन प्रमुख हैं। गुरुवार को इन संगठनों के नेताओं की बैठक होगी, जिसमें अगली रणनीति पर चर्चा होगी।

Posted By: