दिल्ली पुलिस ने सागर धनखड़ हत्याकांड में 170 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की है, जिसमें सुशील कुमार को मुख्य आरोपी बनाया गया है। 3 महीने की तहकीकात के बाद अब दिल्ली क्राइम ब्रांच के पास सुशील कुमार के खिलाफ सबूतों और गवाहों की पूरी लिस्ट तैयार हो गई है। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने सुशील कुमार समेत कुल 20 आरोपी बनाए हैं। इनमें से अब तक 15 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है, जबकि 5 अभी भी फरार हैं। दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में पहलवान सुशील कुमार पर जो आरोप लगाए गए हैं, अगर वो साबित हो गए तो ओलंपिक मेडलिस्ट सुशील कुमार के लिए जेल में लंबा वक्त बिताना पड़ सकता है।

क्या था मामला?

4-5 मई की रात दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में 23 साल के पहलवान सागर को पीटा गया था। बुरी तरह पिटाई की वजह से सागर धनखड़ ने अस्पताल में दम तोड़ दिया था। सागर की मौत के बाद पहलवान सुशील कुमार फरार हो गया, लेकिन पुलिस ने हत्या के 18 दिन बाद उसे दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया था। 4-5 मई की रात का एक वीडियो भी सामने आ चुका है, जिसमें दिख रहा था कि सुशील कुमार के हाथ में डंडा है। उसी वीडियो में सुशील के कुछ और साथी दूसरे लोगों को भी पीटते दिख रहे थे।

क्यों हुई मारपीट?

दिल्ली पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक सुशील पहलवान के खेमे के कई जूनियर पहलवान सागर धनखड़ के साथ चले गए थे, जिससे सुशील कुमार नाराज था। दिल्ली पुलिस की जांच में ये बात सामने आई है कि वर्चस्व की लड़ाई के चलते ही सागर धनखड़ की हत्या हुई थी। चार्जशीट के मुताबिक सुशील कुमार और सागर धनकड़, अपने साथियों की मदद से ज़मीन की खरीद-फरोख्त के रैकेट से जुड़े हुए थे। दोनों खेमों के पहलवान विवादित ज़मीन खरीदने और उस पर कब्ज़ा दिलाने का धंधे में शामिल थे, और मुनाफे के इसी धंधे पर वर्चस्व को लेकर दोनों गुटों में विवाद चल रहा था।

इनकी लड़ाई में शुक्रवार को उत्तर प्रदेश से गिरफ्तार दिल्ली के कुख्यात अपराधी काला जठेड़ी का कनेक्शन भी सामने आया है। दिल्ली पुलिस की जांच के मुताबिक पहलवानों के दोनों खेमे के लोग गैंगस्टर काला जठेड़ी से जुड़े हुए थे और उसकी मदद से इस काले धंधे में फल-फूल रहे थे।

Posted By: Shailendra Kumar