कानपुर। कानपुर आईआईटी के हॉस्टल में एक छात्र ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। छात्र भीम सिंह फरीदाबाद का रहने वाला था और मैकेनिकल ब्रांच में पीएचडी के थर्ड ईयर का छात्र था। जानकारी के मुताबिक, बुधवार को हॉस्टल के कमरे में चादर के सहारे पंखे से फांसी लगा ली। मगर, उसने आत्महत्या क्यों की इसके बारे में कोई जानकारी अभी तक नहीं मिल सकी है।

पुलिस ने शव को उतारने के बाद कमरे की तलाशी ली और सुसाइड नोट भी बरामद किया है। मगर, इसमें क्या लिखा है- इसके बारे में भी कोई जानकारी अभी तक नहीं दी गई है। भीम सिंह की मौत के बाद से उसके दोस्तों और अन्य छात्रों को भी आत्महत्या करने का कारण समझ नहीं आ रहा है।

साथी छात्रों ने बताया कि मंगलवार शाम तक वह खुश था। साथियों के साथ क्रिकेट खेला था। जिम गया और वापस आकर मेस में सबके साथ खाना भी खाया था। मगर, बुधवार सुबह से ही वह कमरे से बाहर नहीं निकला। शाम को जब उन लोगों ने आवाज दी, लेकिन उसके बाद भी उसने कोई जवाब नहीं दिया। शक होने के बाद छात्रों ने आईआईटी प्रबंधन को सूचना दी।

इसके बाद खिड़की से झांक कर देखा गया, तो उसका शव लटका दिखा। घटना की जानकारी के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और रात में कॉलेज प्रबंधन की मौजूदगी में दरवाजा तोड़कर शव को फंदे से उतारा। इसके बाद उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। घटना की जानकारी के लिए फोरेंसिक टीम मामले की जांच में जुट गई है।

भीम के दोस्तों ने बताया कि वह बेहद खुशमिजाज था। डिप्टी डायरेक्टर प्रो. मणिंद्र अग्रवाल ने बताया कि भीम का एकेडमिक रिकार्ड भी अच्छा था। इससे लगता है कि पढ़ाई के दबाव में तो उसने आत्महत्या नहीं की है।

Posted By:

  • Font Size
  • Close