नई दिल्ली/रोहतक। हरियाणा में बहुमत से चंद कदम दूर रह गई भाजपा को निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीते गोपाल कांडा के समर्थन से बवाल मच गया है। कांडा एयर होस्टेस गीतिका शर्मा आत्महत्या कांड के आरोपित हैं। उन्होंने अपने समेत आठ निर्दलीय विजेताओं द्वारा भाजपा के समर्थन की घोषणा की है। लेकिन कांडा से समर्थन पर भाजपा घिर गई है। उधर, गोपाल कांडा ने दावा किया है कि उनका परिवार 1926 से आरएसएस से जुड़ा हुआ है। उन्होंने अपने पिता के आरएसएस से जुड़े होने का दावा किया। साथ ही पीएम मोदी की भी तारीफ की।

क्यों है कांडा पर बवाल

दरअसल, गोपाल कांडा हरियाणा के विवादित नेता हैं। वह 2012 में कांग्रेस की भूपिंदर सिंह हुा सरकार में गृह मंत्री थे। हालिया चुनाव में वह सिरसा से विधायक चुने गए हैं। वह पूर्व में एक एयरलाइंस चलाते थे। उनकी कंपनी में काम करने वाली एयर होस्टेस गीतिका शर्मा ने खुदकशी कर ली थी। इस मामले में कांडा को 2012 में गिरफ्तार किया गया था। कांडा को पहले दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार किया गया था, लेकिन 2014 में दिल्ली हाई कोर्ट ने उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में जमानत देने के साथ ही दुष्कर्म के आरोप से मुक्त कर दिया था। गीतिका ने 5 अगस्त, 2012 को सुसाइड कर लिया था। उसके पास से मिले नोट में लिखा था कि वह कांडा की प्रताड़ना के कारण खुदकुशी कर रही है। इसके छह माह बाद गीतिका की मां ने भी खुदकशी कर ली थी।

स्वच्छ छवि का खयाल रखा जाए : उमा भारती

कांडा द्वारा भाजपा के समर्थन का विरोध शुरू हो गया है। भाजपा नेत्री व पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने शुक्रवार को ट्‌वीट कर पार्टी को आगाह किया कि वह पीएम नरेंद्र मोदी व सीएम खट्टर जैसे नेताओं व कार्यकर्ताओं की स्वच्छ छवि का खयाल रखे। कांडा के समर्थन से वह प्रभावित हो सकती है।

इस बीच, कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भाजपा पर दोहरे मानदंड का आरोप लगाया है। उन्होंने नरेंद्र मोदी व अमित शाह के उन बयानों को याद दिलाया, जो उन्होंने हरियाणा के तत्कालीन मंत्रीगोपाल कांडा के बारे में दिए थे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को कांडा को बर्खास्त करने पर बाध्य होना पड़ा था और उनके खिलाफ केस भी दर्ज किया गया था।

Posted By: Arvind Dubey