Chandra Gochar 2022: सौरमंडल में चंद्रमा की स्थिति सभी ग्रहों से अलग है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चांद कर्क राशि का स्वामी है। रोहिणी, हस्त और श्रवण नक्षत्रों के भी स्वामी है। सभी ग्रहों में चंद्रमा की पारगमन गति सबसे तेज है। ढाई दिन बाद चंद्रमा एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करता है। सूरज के बाद चांद आकाश का सबसे चमकीला ग्रह है। ज्योतिष में चंद्रमा को मन का स्वामी माना गया है।

चंद्रमा के प्रभाव से जातक का मन बेचैन हो जाता है। मन पर नियंत्रण हो तो सब कुछ सहज हो जाता है, लेकिन अस्थिर है तो काम नहीं चलता। सभी कार्य में परेशानियां आती है। चंद्र का राशि परिवर्तन सभी राशियों को प्रभावित करता है। वैदिक ज्योतिष में कुंडली जानने के लिए व्यक्ति की चंद्र स्थिति देखी जाती है। किसी जातक के जन्म के समय चंद्रमा जिस राशि में विराजमान होता है। उसे उस व्यक्ति की चंद्र राशि कहा जाता है।

गजकेसरी योग सबसे शुभ

गजकेसरी योग बहुत शुभ योग माना जाता है। कुंडली में बनने वाले सभी योगों में सबसे शक्तिशाली योग है। धन का स्वामी बृहस्पति और चंद्रमा इस योग का निर्माण करता है। जब चंद्र राहु से जुड़ता है, तो ग्रहण योग बनता है, जो अशुभ माना जाता है। यह जिन लोगों पर हावी होता है। उनकी मानसिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ता है। कुंडली में चंद्रमा और मंगल की युति से लक्ष्मी योग बनता है। इस योग को धन योग कहा जाता है।

चंद्र ग्रह गोचर अक्टूबर 2022

राशि परिवर्तन

दिनांक

दिन

समय

योग

वृश्चिक से धनु

2 अक्टूबर 2022

रविवार

सुबह 03.11

चंद्र

धनु से मकर

4 अक्टूबर 2022

मंगलवार

सुबह 06.01

चंद्र, शनि

मकर से कुंभ

6 अक्टूबर 2022

गुरुवार

सुबह 08.27

चंद्र

कुंभ से मीन

8 अक्टूबर 2022

शनिवार

सुबह 11.23

चंद्र,गुरु

मीन से मेष

10 अक्टूबर

सोमवार

दोपहर 04.01

चंद्र, राहु

मेष से वृषभ

12 अक्टूबर

बुधवार

रात 11.29

चंद्र, मंगल

वृषभ से मिथुन

15 अक्टूबर

शनिवार

सुबह 10.01

चंद्र, मंगल

मिथुन से कर्क

17 अक्टूबर

सोमवार

रात 10.28

चंद्र

कर्क से सिंह

20 अक्टूबर

गुरुवार

सुबह 10.30

चंद्र

सिंह से कन्या

22 अक्टूबर

शनिवार

रात 08.04

चंद्र, बुध

कन्या से तुला

25 अक्टूबर

मंगलवार

मध्यरात्रि 02.33

चंद्र, केतु, सूर्य, बुध, शुक्र

तुला से वृश्चिक

27 अक्टूबर

गुरुवार

सुबह 06.30

चंद्र

वृश्चिक से धनु

29 अक्टूबर

शनिवार

सुबह 09.05

चंद्र

धनु से मकर

31 अक्टूबर

सोमवार

सुबह 11.23

चंद्र, शनि

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close