Chandra Grahan 2022: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्रग्रहण को एक विशेष घटना के रूप में माना जाता है। वहीं पौराणिक ग्रंथो के अनुसार आकाश में जब भी चंद्रग्रहण की स्थिति बनती है तो इसका पूरा प्रभाव पूरे भूमंडल पर पड़ता है। ज्योतिष के मुताबिक इस साल यानी कि साल 2022 में कुल 4 ग्रहण लगेंगे। जिसमें 2 चंद्रग्रहण और 2 सूर्यग्रहण होंगे। अब तक पहला सूर्य और चंद्र ग्रहण लग चुका है। अब दूसरा और अंतिम चंद्रग्रहण 8 नवंबर 2022 को लगने वाला है। इस खगोलीय घटना का असर देश दुनिया पर तो पड़ता ही है साथ ही सभी राशियों यानी कि मेष से लेकर मीन पर भी पड़ने वाला है। आइए जानते हैं कि इस साल के दूसरे और अंतिम चंद्र ग्रहण का समय कब है और सूतक काल कब लगेगा।

चंद्रग्रहण और सूतक काल

बता दें कि पूर्ण तौर पर चंद्र ग्रहण तब माना जाता है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीध में आ जाते हैं। इसके साथ ही जब पृथ्वी, सूर्य और चंद्रमा के बीच में आ जाती है। तब भी चंद्रग्रहण की स्थिति बनती है। साल की दूसरा चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा। इसलिए भारत में इस चंद्रग्रहण का धार्मिक प्रभाव नहीं माना जाएगा। साथ ही सूतक काल भी मान्य नहीं होगा। यह चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा। इसलिए सूतक काल के नियमों का पालन भी न करें।

कब लगेगा चंद्रग्रहण

साल 2022 का दूसरा चंद्रग्रहण भारत में दिखाई नहीं देने वाला है। यह भारतीय समय के अनुसार 8 नवंबर को दोपहर 1 बजकर 32 मिनट से शाम 7 बजकर 27 मिनट तक लगेगा। यह इस साल का अंतिम चंद्रग्रहण होगा। इस चंद्रग्रहण का प्रभाव भारत समेत दक्षिण/पूर्वी यूरोप, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका, पेसिफिक, अटलांटिक और हिंद महासागर में भी देखने को मिलेगा। जानकारी के लिए बता दें कि इस साल का पहला चंद्रग्रहण 15, 16 मई को लगा था। जिसका भी असर भारत पर नहीं था।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close