Guru Margi 2021: शनि और गुरु दोनों मकर राशि में गोचर कर रहे हैं। 11 अक्टूबर को शनि मार्गी हो चुके हैं। अब 18 अक्टूबर (सोमवार) को गुरु भी मार्गी हो चुके हैं। मकर राशि गुरु की नीच राशि मानी गई है। गुरु की सीधी चाल से सभी राशियों पर इसका प्रभाव पड़ेगा। खासतौर पर मेष, वृश्चिक, धनु और मीन राशि के जातकों के लिए लाभदायक सिद्ध होगा। इन राशवालों को व्यापार, नौकरी, शिक्षा में लाभ होगा। वह अविवाहित के शादी के योग बनेंगे।

गुरु बृहस्पति 18 अक्टूबर 2021 को सुबह 11:39 बजे मकर राशि में गोचर करेंगे और 20 नवंबर 2021 तक यानी कुंभ राशि में प्रवेश करने तक इसी स्थिति में रहेंगे। वहीं बुध उसी दिन रात 08:46 बजे कन्या राशि में गोचर करेंगे। उज्जैन के ज्योतिषी पं. मनीष शर्मा ने बताया कि बृहस्पति की स्थिति भारत के लिए शुभ रहेगी। स्वतंत्र भारत की कुंडली के अनुसार देश की राशि कर्क है। गुरु के मार्ग बनने पर भय की स्थिति समाप्त हो जाएगी।

मेष राशि (Aries)

गुरु के मार्गी होने इस राशि वालों का मान-सम्मान बढ़ेगा। आर्थिक पक्ष में मजबूती होगी। कोई पैतृक संपत्ति मिलने के योग है। बेरोजगारों को नौकरी के अच्छे प्रस्ताव मिलेंगे। कोई रुका हुआ कार्य भी पूरा होगा। हर काम बिना रुकावट पूरे होते जाएंगे।

वृश्चिक राशि (Scorpio)

वृश्चिक राशि के जातकों के आत्मविश्वास में वृ्द्धि होगी। विदेश यात्रा हो सकती है। नया वाहन या कोई मकान खरीद सकते हैं। कोई शुभ सामाचर मिल सकता है।

धनु राशि (Sagittarius)

गुरु धनु राशि के स्वामी ग्रह है। गुरु का मार्गी होने इस राशिवालों के लिए शुभ होगा। आय में बढ़ोतरी होगी। कोई अटका हुआ पैसा वापस मिलेगा। सुख सुविधा में बढ़ोतरी होगी। हर तरफ से शुभ सामाचर मिलेंगे।

मीन राशि (Pisces)

गुरु के मार्गी होने से मीन राशिवालों को लाभ होगा। व्यापारी में बढ़ोतरी होगी। नौकरीपेशा वर्ग के जातकों को प्रमोशन मिल सकता है। नए काम की शुरुआत के लिए अच्छा समय है। युवाओं को शिक्षा में अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Arvind Dubey