Venus-Mercury Conjunction: 18 जून को शुक्र ने अपनी ही राशि वृषभ में गोचर किया है। यहां बुध देव मार्गी अवस्था में पहले से ही विराजमान हैं। वृषभ राशि में शुक्र और बुध की ये स्थिति विशेष और अत्यंत शुभ युति का निर्माण कर रही है। ज्योतिष में वृषभ राशि के स्वामी ग्रह शुक्रदेव को भोग विलास, भौतिक सुख, ऐश्वर्य, वैवाहिक जीवन एवं जीवनसाथी का कारक होता है। इसे बहुत ही शुभ और सौम्य ग्रह माना है। वहीं बुध को ज्योतिष में सभी ग्रहों के राजकुमार ग्रह की उपाधि प्राप्त है। बुध भी स्वभाव से एक सौम्य ग्रह और शुभ फलदायक माने जाते हैं। बुध को गणित, व्यापार, तर्क, वाणी, संचार आदि का कारक माना जाता है।

इन दो शुभ ग्रहों की युति से वृषभ राशि में “लक्ष्मी नारायण योग” बन रहा है। शास्त्रों में इस योग को बेहद शुभ और फलदायी माना गया है। ज्योतिष के मुताबिक इस योग में दरिद्र व्यक्ति भी धनवान बन जाता है। ये योग 18 जून से 2 जुलाई तक बनेगा, और इस दौरान जातकों पर बुध और शुक्र का प्रभाव कई गुना बढ़ जाएगा। वैसे तो इसका सबसे अधिक असर वृषभ राशि के जातकों पर पड़ेगा, लेकिन कई अन्य राशियों के भाग्य भी खुलने वाले हैं। चलिए आपको बतायें कि किन राशियों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़नेवाला है।

मेष राशि

इस राशि के जातकों के लिए द्वितीय भाव यानी धन भाव में बुध और शुक्र की युति हो रही है। ऐसे में आप अपने व्यक्तित्व और बोलने की कला से सबका दिल जीत लेंगे और इससे आपकी आय में वृद्धि होगी। मार्केटिंग, संचार, सेल्स आदि से जुड़े लोगों के लिए ये समय विशेष फायदेमंद है। आप अपने ग्राहक से मनचाही डील हासिल कर सकते हैं। व्यापारियों को भी अपने कारोबार में अचानक किसी स्रोत से अच्छा मुनाफा मिलेगा। अटका हुआ धन भी मिलने की संभावना है।

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए बुध और शुक्र की ये युति एकादश भाव में बन रही है। ज्योतिष के मुताबिक एकादश भाव, लाभ भाव कहलाता है। इस भाव में लक्ष्मी नारायण योग बनने से आपकी आय में बढ़ोतरी के नये रास्ते खुलेंगे और लगातार आमदनी होगी। इसका असर रोजगार या व्यवसाय पर भी दिखेगा। यानी इनमें तरक्की से ही आपकी आपकी आय में बढ़ोतरी हो सकती है। कुल मिलाकर इस राशि को जातकों को इस अवधि में शानदार मुनाफा होनेवाला है।

सिंह राशि

सिंह राशि के जातकों के लिए बुध-शुक्र की युति उनके दशम भाव में बन रही है। कुंडली का दशम भाव आपके रोजगार, व्यवसाय या कार्यक्षेत्र का हाल बताता है। ऐसे में दशम भाव में इस शुभ संयोग के बनने से आपकी नौकरी में तरक्की के योग बनेंगे। किसी प्रेजेन्टेशन या इंटरव्यू में आपको फौरन सफलता मिलेगी। बिजनेस में किसी के कोई डील फाइनल करने का ये उत्तम समय है। आपकी वाणी और आपका व्यक्तित्व, दोनों प्रभावोत्पादक होंगे और आपको मनचाही कामयाबी मिलेगी। इस युति की वजह से करियर में सफलता और कार्यस्थल पर अनुकूल फल मिलने की प्रबल संभावना बन रही है।

कन्या राशि

इस राशि के जातकों के लिए लक्ष्मी नारायण योग उनके नवम भाव में बन रहा है। नवम भाव भाग्य और धर्म का होता है। यानी इस अवधि में आपका भाग्य प्रबल रहनेवाला है। ये समय किसी भी तरह से शेयर या भविष्य के निवेश के लिए अच्छा है। आप जो भी फैसला लेंगे, उसमें भाग्य आपका साथ देगा और भविष्य में उसके शानदार परिणाम प्राप्त होंगे। इस दौरान आपका धार्मिक रुझान बढ़ेगा और आप किसी तीर्थयात्रा पर जाने का प्लान कर सकते हैं। धन पक्ष के लिहाज़ से भी भाग्य का पूरा साथ मिलेगा और आप अपनी सुख-सुविधा से जुड़ी कुछ अधूरी इच्छाओं की पूर्ति कर सकते हैं।

मकर राशि

इस राशि के जातकों के लिए बुध-शुक्र की युति उनके पंचम भाव में हो रही है। ज्योतिष के मुताबिक पंचम भाव शिक्षा, संतान, उच्च शिक्षा और जीवनसाथी से जुड़ा है। तो अगर आप विद्यार्थी हैं, तो ये समय आपके लिए बहुत शुभ है। आपको परीक्षा में कामयाबी मिलेगी और अच्छे अंक प्राप्त होंगे। किसी उच्च शिक्षण संस्थान जैसे आईआईटी आदि में प्रवेश मिल सकता है। करियर के लिहाज से भी इंटरव्यू आदि में सफलता मिलेगी। संतान पक्ष से सुखद समाचार मिलेगा और उनकी तरक्की हो सकती है। हो सकता है कि संतान से गिफ्ट के रुप में कुछ लक्जरी आयटम मिल जाए। जीवनसाथी से भी मधुर और सहयोगपूर्ण संबंध बनेंगे।

कुंभ राशि

इस राशि के जातकों के लिए महालक्ष्मी योग उनके चतुर्थ भाव में बन रहा है। कुंडली के इस भाव से भूमि, वाहन, संपत्ति और माता का विचार किया जाता है। ऐसे में इस राशि के जातकों के लिए भूमि, वाहन या मकान खरीदने का अच्छा समय है। घर की साज-सज्जा, बेड, फर्नीचर और अन्य सुख-सुविधाओं में बढ़ोतरी के योग हैं। इस खरीदारी में धन तो खर्च होगा, लेकिन फैसले से आपके आराम में वृद्धि होगी। इस अवधि में कई जातकों को अपने घर से दूर जाना भी पड़ सकता है। बुध-शुक्र की सातवीं दृष्टि आपके कर्म भाव होगी, इसलिए करियर में भी कामयाबी मिलेगी और आपको प्रमोशन या ट्रांसफर के मौके मिल सकते हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close