Nautapa 2022 Start Date: गर्मी दिनों दिन असहनीय होती जा रही है। धरती का तापमान बढ़ रहा है। हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। हिंदू ज्योतिष के अनुसार नौतपा जल्द शुरू होने जा रहा है, जो गर्मियों का सबसे गर्म समय होने की उम्मीद है। पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ के महीने में नौतपा होता है। जिसमें सूर्य 14 दिनों के लिए रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करता है। इस साल नौतपा 25 मई से शुरू होकर 2 जून तक रहेगा। नौतपा के नौ दिनों के दौरान सूरज अपने उग्र रूप में माना जाता है। जिससे तापमान और भी अधिक बढ़ जाता है। सूर्य के रोहिणी नक्षत्र में आते ही पृथ्वी का तापमान बढ़ने लगता है।

नौतपा 2022: तिथि और समय (Nautapa 2022: Date and Time)

पंचांग के अनुसार सूर्य 25 मई को सुबह 08.16 बजे रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश रहेगा। 14 दिन पूरे करने के बाद सूर्य 02 जून को सुबह 06.40 बजे रोहिणी नक्षत्र से निकलेगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार रवि की राशि के भीतर स्थित होना अशुभ माना जाता है। ग्रहों की स्थिति देश के पूर्व-पश्चिम और दक्षिणी भागों में आपदाओं के आने की संभावना का भी संकेत देती है।

नौतपा 2022: सावधानियां (Nautapa 2022: Precautions)

नौतपा में सतर्क रहने की जरूरत है। इस दौरान सूर्य की किरणें सीधे पृथ्वी की सतह पर पड़ती हैं। जिससे गर्मी बढ़ जाती है। यह धूल भरी आंधी और लू का कारण भी बनता है। भीषण गर्मी से बचने के लिए दिन में बाहर निकलने से बचना चाहिए। आसानी से पच सके इसके लिए हल्का भोजन करें। पानी का अधिक से अधिक सेवन करें। पशु-पक्षियों के लिए जल की व्यवस्था करें।

नौतपा 2022: बारिश की भविष्यवाणी (Nautapa 2022: Rain Prediction)

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर नौतपा के 9 दिनों के अंदर बारिश शुरू हो जाए। इसे मानसून के मौसम के लिए अच्छा संकेत नहीं माना जाता। हालांकि नौतपा के दौरान जितनी गर्मी होगी, मानसून उतना ही खुशनुमा होगा।

नौतपा 2022: 6 दिनों तक गर्मी और उमस (Nautapa 2022: Heat and Humidity For 6 Days)

नौतपा के पहले छह दिन गर्म और उमस भरे रहने की संभावना है। इस बीच नौतपा के पहले कुछ इलाकों में धूल भरी आंधी और हवा चलने का अनुमान है। ज्योतिषाचार्य के अनुसार मानसून किसानों के लिए अच्छा और लाभकारी रहने की उम्मीद है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close