Vastu Tips: हर घर में घर की साफ-सफाई के लिए झाड़ू का इस्तेमाल किया जाता है। हिंदू धर्म में झाड़ू को मां लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है। ऐसे में ज्योतिष शास्त्र में झाड़ू से जुड़ी की मान्यताओं के बारे में बताया गया है। अगर इन बातों को जरा भी नजरअंदाज किया जाए तो व्यक्ति को गरीब या कंगाल होने में जरा भी देर नहीं लगती है। झाड़ू खरीदने के दिन से लेकर पुरानी झाड़ू के साथ क्या किया जाना चाहिए, उसे कहां रखा जाना चाहिए आदि बातों को ध्यान रखने से व्यक्ति को धनवान बनने में भी देर नहीं लगेगी। आइए जानते हैं कि अगर गलती से झाड़ू पर पैर लग जाए तो क्या करना चाहिए।

झाड़ू पर पैर लगने पर क्या करें

वास्तु शास्त्र में झाड़ू को लेकर की नियमों के बारे में बताया गया है। कई बार जाने-अनजाने में हमारा झाड़ू पर पैर लग जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऐसी स्थिति में क्या किया जाए। झाड़ू पर पैर लगना मां लक्ष्मी का अपमान होता है। इस वजह से व्यक्ति को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है। अगर आपसे भी कभी ऐसा होता है तो झाड़ू को हाथ से छूकर माथे पर लगा लेना चाहिए और मां लक्ष्मी से अपनी इस गलती के लिए क्षमा मांगनी चाहिए।

झाड़ू से जुड़े नियम

- झाड़ू को कभी भी खड़ी नहीं रखना चाहिए। इसे हमेशा लिटाकर रखा जाना चाहिए। कहते हैं कि खड़ी झाड़ू अपशगुन मानी गई है। इस वजह से आपको मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है।

- घर में कभी भी टूटी झाड़ू का प्रयोग न करें। झाड़ू के टूटने या खराब होने पर इसे तुरंत बदल लें। साथ ही इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि शुक्रवार और गुरुवार के दिन झाड़ू बाहर न फेंके।

- इसके अलावा रात में कभी भी झाड़ू नहीं लगाना चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको धन से संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

- झाड़ू को अगर दक्षिण-पश्चिम या दक्षिण दिशा में रखेंगे तो जीवन में कभी भी धन की हानि नहीं होगी और मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी।

- वास्तु के अनुसार झाड़ू को कभी भी अलमारी या तिजोरी के पीछे सटाकर नहीं रखना चाहिए। ऐसा करना भी धन हानि का कारण बनता है।

Navratri Upay: अगर चाहते हैं धन लाभ और मनचाहा जीवनसाथी तो तुरंत करें नवरात्रि में ये आसान उपाय

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Shrma

  • Font Size
  • Close