Effect of Rahu: पैसे की चाहत आदमी का अंधा बना देती है। आपने यह बात कई बार सुनी होगी। पैसा कमाने के लिए लोग दिन-रात मेहनत करते हैं। लेकिन करोड़पति बनने के लिए अपने भाग्य पर निर्भर रहते हैं। कुछ लोग शेयर मार्केट में पैसा निवेश करते हैं। वहीं, कुछ लोग लॉटरी टिकट, सट्टा बाजार, क्रिकेट लीग और ड्रीम 11 जैसे एप्लीकेशन पर भी अपनी किस्मत आजमाते हैं। लॉटरी और सट्टा लगाना यूं तो बुरी आदत है। इसकी लत आदमी को कंगाल कर देती है। लेकिन इसे किस्मत से इसलिए जोड़ा जाता है क्योंकि कब किसकी लॉटरी लग जाए कहा नहीं जा सकता। कुंडली में मौजूद एक ग्रह ऐसा है जो मेहरबान हो जाए तो लॉटरी निकल जाती है और जातक मालामाल हो जाता है। यह ग्रह राहू है। राहू को ज्योतिष शास्त्र में जातकों को परेशान करने वाला पापी ग्रह माना जाता है लेकिन अगर ये कुंडली में सही जगह पर बैठ जाए तो किस्मत चमका देता है।

कुंडली में राहु को मजबूत करने के उपाय

1.प्रतिदिन सुबह चंदन का तिलक लगाएं।

2.राहु को मजबूत करने के लिए घर के पूर्वी और उत्तर-पश्चिम दीवार पर मोर पंख लगाएं।

3.काले कुत्ते को मीठी रोटी खिलाएं।

4.काले कुत्ते की सेवा करें। उसे रोजाना खाना खिलाएं।

5.मांस-मछली और शराब इत्यादि मादक पदार्थों का सेवन न करें।

6.जरूरतमंद लोगों की सहायता करें।

7.चांदी का सिक्का हमेशा अपने पास रखें।

8.पानी में गंगाजल डालकर रोजाना स्नान करें।

9.लोहे का छल्ला और कड़ा पहनें।

आइये जानते हैं राहू की शुभ नजर के बारे में

ज्योतिष में कुंडली का 5वां भाव लॉटरी का माना गया है तो दूसरा भाव धन का होता है। कुंडली में 11वां भाव धन/पैसे के लाभ का होता है। वहीं, 9वां भाव भाग्य का भाव कहा जाता है। यदि राहू जातक की कुंडली के इन्हीं में से किसी भाव में मजबूत स्थिति में बैठा है तो उसकी लॉटरी लगने की संभावना बढ़ जाती है। ज्योतिष शास्त्र में कहा जाता है कि राहू अगर जातक की कुंडली में सही जगह पर बैठा हो, या जातक के पक्ष में राहू की दशा या महादशा चले तो जातक को आकस्मिक धन लाभ होना तय माना जाता है। राहू अगर अनुकूल हो और धन लाभ कराने वाले ग्रह भी सही दिशा में हो तो जातक जहां हाथ लगाए वहीं से धन लाभ होता है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close