Lal Kitab Upay: ज्योतिष की लाल किताब में लिखित उपाय देखने और पड़ने में सरल और छोटे लगते हैं, लेकिन ये अत्यंत ही शीघ्र प्रभाव देने वाले होते हैं। नीचे दिए गए लाल किताब के इन 50 उपायों में से एकाधिक उपाय को भी श्रद्धापूर्वक कम से कम 60 दिन तक किये जाये तो आश्चर्यजनक रूप से चमत्कारी एवं लाभकारी परिणामों की प्राप्ति होती है। आइये जानते हैं इन उपायों के बारे में....

लाल किताब के टोटके से दूर होगी आर्थिक तंगी

1.लाल किताब के अनुसार अगर आप धन संबंधी समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप 21 शुक्रवार तक 9 वर्ष आयु तक की पांच कन्याओं को खीर और मिश्री का प्रसाद खिलाएं। आपकी समस्या का समाधान हो जाएगा।

2.लाल किताब के अनुसार अगर आपके हाथ में पैसा नहीं टिकता है। जेब खाली रहती है तो अपने सिराहने तांबे का पात्र रखें और उसमें लाल चंदन डालकर दें। अगले दिन सुबह उसे तुलसी के पौधे में चढ़ा दें। आपकी समस्या का समाधान हो जाएगा।

3. लाल किताब के अनुसार अगर आप करियर या व्यापार में किसी तरह परेशानी झेल रहे हैं तो कुत्ते को रोटी खिलाना उत्तम रहता है। ऐसा करने से आपकी समस्या का समाधान हो जाएगा।

4. लाल किताब के अनुसार अगर आपके घर में किसी कन्या के विवाह में बाधा आ रही हो तो हर सोमवार को ऊं सोमेश्वराय नमः मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव को दूध, जल, बेलपत्र अर्पित करें। आपकी समस्या का समाधान हो जाएगा।

नोट करें 50 उपाय

1- किसी भी महत्वपूर्ण कार्य को शुरू करने अथवा यात्रा पर निकलने से पूर्व थोड़ा गुड़ खाकर पानी पीयें।

2- घर में बड़ी बुजुर्ग महिलाओं (दादी मां , चाची , बुआ आदि ) को समुचित सम्मान-सेवा द्वारा प्रसन्न रखें।

3- घर में गाय पालें और उसकी यथासंभव सेवा सुश्रुषा करें परन्तु वह गाय काले रंग की होनी चाहिए, सफ़ेद नहीं।

4- रात क सोते समय 5 कागजी बादाम को सिरहाने रखें और दूसरे दिन उन्हें ले जाकर देवमन्दिर में दान कर देवें।

5- घर में अगर गाय भैंस हो तो उसके दूध का उपयोग स्वयं करें या परिवार वाले करें। इस दूध का विक्रय किसी भी हालत में न करें।

6- गर्मी के दिनों में रास्ते पर पथिकों के लिए ठंडा जल पिने की व्यवस्था करें।

7- चांदी की दो ठोस गोलियों को अपने पास सदैव रखें।

8- तंदूर में सिकी रोटी में गुड मिलाकर पालतू कुत्तो को खिलाएं।

9- त्रिधातु (सोना+ चांदी+तांबा) से विधिपूर्वक निर्मित अभिमंत्रित पवित्री (दरिद्रता नाशक मुद्रिका )अपने दाहिने हाथ की अनामिका उंगली में गुरुवार को धारण करें। यह मुद्रिका अदभुत चमत्कारी होती है।

10- चांदी की बिना जोड़ वाली अंगूठी तर्जनी उंगली में पहने रखें।

11- घर में तोता, मैना आदि को पालें या बाहर के पक्षियों को भी बुलाकर उन्हें खिलाएं पिलायें।

12- पन्ना या हीरा में से कोई एक रत्न अंगूठी में जड़वा कर धारण करें।

13- घर के किसी कोने में चांदी का एक चौकोर टुकड़ा गाड़ देवें।

14- अपने वेतन का एक निश्चित अंश पहले निकालकर तिजोरी, लॉकर या पर्स में रखें और उसे खर्च न करें।

15- प्रतिदिन स्नानादि से निवृत होकर नाभि में केसर का तिलक लगावें।

16- मंदिर में जाकर प्रतिदिन गर्भगृह या उसके परिसर में पोंछा लगाएं।

17- लाल रंग की 43 गुंजाओ को सोने के एक टुकड़े या किसी आभूषण के साथ पीले कपडे में बांधकर अपने घर में किसी पवित्र स्थान में रखें।

18- सांप को कभी ना मारे, बल्कि उसके बिल के पास जाकर, चांदी के कटोरे में दूध रखकर आवें।

19- सरसों का दीपक देवमन्दिर में जलाएं या उसकी व्यवस्था करें।

20- भोजन के पूर्व गौ ग्रास निकाल कर गाय , कौआ अथवा कुत्ते को खिलाएं।

21- गौशाला में जाकर गाय के गले में पीतल की घंटियां बांधे।

22- पत्नी के मस्तक पर स्वर्णाभूषण करवाएं।

23- प्रतिदिन घर के बुजुर्गों के चरण स्पर्श कर उनसे आशीर्वाद ग्रहण करें।

24- रसोईघर के लिए उपयोगी लोहे की वस्तुओं (जैसे तवा , कढ़ाही , करछुल , छलनी आदि ) का अभावग्रस्त लोगों में दान करें।

25- कौओं और काले कुटटन को मीठी रोटी खिलाएं।

26- किसी भी पशु- पक्षी का शिकार न करें।

27- स्नान करते समय थोड़ा दूध पहले मस्तक पर रखें।

28- आप स्वयं भी कोई न कोई स्वर्णा भूषण शरीर पर अवश्य धारण करें।

29- चार सौ ग्राम धनिया बहती नदी के जल में प्रवाहित करें।

30- घर-आंगन में हरे पौधों के गमले तथा तुलसी का पौधा अवश्य रखें।

31- भोजन बन जाने के बाद चूल्हे की आग को बाहर निकालकर पानी के बजाय दूध से बुझावें।

32- एक लोटा गंगाजल से भरकर तथा उसके अंदर चांदी के दो सिक्के डाल कर बंद कर घर में रखें। (ढक्कन लगाकर)

33- रात को सोते समय सिरहाने एक गिलास में पानी भरकर रखें और सुबह उठकर बिना मुहं धोये उसे पी ले।

34- असली मूंगा रतन का एक टुकड़ा हमेशा ही सिरहाने तकिया के नीचे रखकर रात में सोये।

35- पैरों के दोनों अंगूठों में चांदी का छल्ला पहनकर रहें।

36- दाहिने हाथ की तर्जनी उंगली में सोने की अंगूठी धारण करें।

37- कान छिदवाकर उसमें सोने के कुण्डल धारण करें।

38- घर में कुत्ता पाले और उसकी सुख- सुविधाओं का ध्यान रखें।

39- काली चीटियों को चीनी मिश्रित आटा खिलाएं।

40- कभी किसी को धोखा देने की नीयत न रखें।

41- एक सुखा नारियल शनिवार को बहती नदी के जल में प्रवाहित करें।

42- कुंवारी कन्याओं की समय –समय पर पूजा किया करें और उन्हें दूध चावल, चांदी का दान देकर उनका आशीर्वाद लें।

43- हनुमान चालीसा या सुन्दरकाण्ड, रामायण का प्रतिदिन पाठ करें।

44- काला सुरमा खुली शीशी में रखकर किसी एकांत स्थान में जाकर जमीन में गाड़ दें।

45- प्रत्येक शनिवार को हनुमान जी के मंदिर जाकर हनुमान जी की प्रतिमा को सिन्दूर का लेप लगाएं।

46- एक पैग शराब भैरों या काल भैरव के मंदिर में जाकर उन्हें अर्पित करें।

47- किसी कूप या तालाब में प्रति शनिवार को लगातार तांबे का एक सिक्का गिराएं। ध्यान रखें आपको कोई देखने न पाएं।

48- तीन अंधे व्यक्तियों को घर पर बुलाकर हर शनिवार को भरपेट खिचड़ी खिलाएं।

49- नारियल के ऊपर एक छेड़ बनाकर उसे तिल और चीनी से भर दें और एकांत स्थान पर जमीन के अंदर इस ढंग से गाड़ देवें की उसका ऊपर वाला छेड़ जमीन से कुछ ऊपर रहे वह ढकने न पावे।

50- प्रतिदिन काले कौओं क अपने भोजन में से ग्रास निकाल कर खाने को देवें।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close