Janmashtami 2022 । देशभर में आज कृष्ण जन्माष्टमी पर्व उत्साह के साथ मनाने की तैयारी चल रही है। आज सुबह से ही कृष्ण मंदिरों में भक्तों की भीड़ देखी जा रही है। हिंदू पंचांग के मुताबिक 18 अगस्त को रात 9.21 बजे से अष्टमी तिथि शुरू हो गई है, जो 19 अगस्त यानी आज रात 10.59 बजे समाप्त होगी। श्रीकृष्ण की जन्मस्थली मथुरा में भी आज जन्माष्टमी मनाई जा रही है। सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी आज जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण की पूजा के लिए मथुरा जाएंगे। वहीं मुंबई में दही हांडी की तैयारी चल रही है। यहां भी मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने दही हांडी को साहसिक खेल का दर्जा देने का ऐलान किया है।

भाद्रपद में हर साल मनाई जाती है Janmashtami

हिंदू पंचांग के मुताबिक Janmashtami हर साल भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी और रोहिणी नक्षत्र की युति पर मनाई जाती है। जन्माष्टमी के दिन भक्त बाल-गोपाल की पालकी को सजाते हैं और उन्हें पूरी श्रद्धा से सजाते हैं।

Janmashtami 2022 का शुभ मुहूर्त

- ब्रह्म मुहूर्त - 04.32 पूर्वाह्न - 05.16 पूर्वाह्न

- अभिजीत मुहूर्त - दोपहर 12.04 बजे - दोपहर 12.56 बजे

- गोधूलि मुहूर्त - 06.47 अपराह्न - 07.11 अपराह्न

Janmashtami 2022 पर बन रहे 8 शुभ योग

इस साल Janmashtami 2022 पर 8 प्रकार के शुभ योग निर्मित हो रहे हैं। ये 8 शुभ योग हैं महालक्ष्मी, बुधादित्य, ध्रुव, छात्र, कुलदीपक, भारती, हर्ष और सत्कीर्ति योग। इन योगों में भगवान कृष्ण की पूजा आराधना करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है।

Janmashtami 2022 पर ऐसे करें कान्हा की पूजा

- शंख में साफ जल भरकर कान्हा की मूर्ति को स्नान कराएं।

- स्नान के बाद कान्हा की मूर्ति को साफ और नए कपड़े पहनाएं।

- भगवान कृष्ण को चंदन और आभूषणों से सजाएं।

- कान्हा जी के लिए मोर मुकुट, मोर पंख, पसंदीदा बांसुरी और माला धारण करें।

- श्रीकृष्ण की पूजा में श्रृंगार का विशेष महत्व है। अच्छी तरह से श्रृंगार करने के बाद ही पूजा और आरती करना चाहिए।

- कान्हा को पसंदीदा मक्खन, दही, मिश्री और खीर का भोग चढ़ाना चाहिए।

मथुरा में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

मथुरा में कृष्ण जन्माष्टमी कार्यक्रम के कारण सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। श्रीकृष्ण की जन्मस्थली मथुरा में ड्रोन कैमरों से निगरानी की जा रही है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इसी दिन भगवान श्री कृष्ण (Krishna) का जन्म हुआ था।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close