Jyotish Upay। हमारे आसपास ही हम कई ऐसे लोगों को देखते हैं जिन्हें कुत्ते से बहुत ज्यादा डर लगता है या कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जिन्हें बार-बार कुत्ता काटता है। दरअसल ऐसे लोगों के कुंडली में कुछ ऐसे योग होते हैं जिसके कारण जातक को बार-बार कुत्ता काटता है। ज्योतिष के मुताबिक हर किसी के जातक के कुंडली में नवग्रह की स्थिति तय करती है कि जातक किस गृह से पीड़ित है, ऐसे में राहु, शनि और केतु कुंडली में मारक स्थिति में हो तो जानवर से हानि होने की आशंका होती है। जब जातक की कुंडली में 6वें, 8वें और 12वें भाव में गोचर केतु नीच का हो तो कुत्ता हमला कर सकता है। इसके अलावा जिन लोगों की कुंडली में पितृ दोष हो तो उन्हें भी कुत्ते के हमले का सामना करना पड़ सकता है।

कुत्ता काटने से बचना है तो इन मंत्रों का करें जाप

अश्वध्वजाय विद्महे शूलहस्ताय धीमहि।

तन्नो केतु प्रचोदयात्।।

ऊँ उं केतु देवाय नमः:

अनेक रूप वर्णश्च शत शोथ सहस्त्रश:।

उत्पात रूपो जगन्नाथम् पीड़ां हरतु मे शिखि:।।

ये घरेलू उपाय भी करें

- सर्वप्रथम बाबा काल भैरव की रोज पूजा करें।

- भगवान भैरव के दर्शन से कुत्ता का भय नहीं होता है।

- धार्मिक मान्यता है कि भैरवनाथ का वाहन श्वान ही है। श्वान का अर्थ कुत्ता।

- घर में कुत्ता पालना चाहिए और उसे रोज दूध-रोटी खिलाना चाहिए।

ज्योतिष में ये है मान्यता

भारतीय ज्योतिष के मुताबिक उल्लू व कबूतर की तरह कुत्ते को भी यमराज का दूत माना गया है। ज्योतिष में श्वान या कुत्ते को यमराज से जोड़ा गया है और इसे अशुभ माना गया है। ऋग्वेद में कुत्ते की आवाज को जघन्य माना गया है। सूत्र-ग्रंथों में भी कुत्ते को अपवित्र माना गया है। इसके स्पर्श व दृष्टि से भोजन अपवित्र हो जाता है। भैरों देवता को प्रसन्न करने के लिए भी कुत्ते को रोज रोटी खिलाने का प्रावधान है। शनि की प्रसन्नता के लिए भी काले कुत्ते को रोज रोटी खिलाना चाहिए।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close