Mauni Amavasya 2022: हिंदू पंचांग के अनुसार माघ मास की अमावस्या तिथि यानी मौनी अमावस्या स्नान इस बार 1 फरवरी को होगा। यह सबसे प्रमुख स्नान पर्व है। जिसमें श्रद्धालु पवित्र नदियों में डुबकी लगाते हैं। ज्योतिषाचार्य के अनुसार इस बार मौनी अमावस्या पर ग्रह नक्षत्रों का विशेष संयोग बन रहा है। अमावस्या पर धनु राशि में सूर्य, मंगल और शुक्र का गोचर होगा। मकर राशि में चंद्रमा, शनि और सूर्य देव संचरण करेंगे।

ज्योतिषशास्त्र के मुताबिक 27 साल बाद मौनी अमावस्या पर मकर राशि में शनि देव और सूर्य देव गोचर करेंगे। अब ऐसा संयोग 27 वर्ष बाद आएगा। साथ ही दो राशियों में तीन-तीन ग्रहों का संचरण अत्यंत लाभकारी है। मौन रखकर पवित्र नदी में स्नान करने वाले जातकों को सुख-समृद्धि की प्राप्ति होगी।

मौनी अमावस्या शुभ मुहूर्त

31 जनवरी दोपहर 01 बजकर 27 बजे से अमावस्या तिथि लग जाएगी। यह 1 फरवरी दोपहर 11 बजकर 29 मिनट तक रहेगी। मंगलवार होने के कारण भौमवती अमावस्या मनाई जाएगी। सिद्धि योग सुबह 07.10 बजे तक है। इसके बाद व्याघृत योग लगेगा।

ज्योतिषाचार्य के अनुसार पद्म पुराण में माघ मास की अमावस्या तिथि श्रेष्ठ है। इसमें मौन व्रत रखकर पवित्र नदी में स्नान करने से सारी इच्छा पूरी होगी। स्नान के समय भगवान का ध्यान करना चाहिए। गाय, कुत्ता व कौआ का संबंध पितरों से माना गया है। इन तीनों के लिए भोजन निकालना चाहिए। मांस, मदिरा, लहसुन, प्याज का सेवन नहीं करना चाहिए। सुबह स्नान के बाद पीपल की परिक्रमा और दीपदान करें।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Arvind Dubey