Shardiya Navratri 2022: शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 26 सितंबर से हो रही है। इस बार मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आ रही है। देवी का आगमन और प्रस्थान हाथी पर होगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार माता का हाथी पर जाना शुभ होता है। इस सवारी पर मां दुर्गा अपने साथ दुख, रोग, कष्ट आदि ले जाती हैं। हाथ पर देवमाता की सवारी भक्तों को खुशियां देकर जाती है। कहा जाता है कि माता की हाथी की सवारी से पानी की समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

शारदीय नवरात्रि तिथि

हिंदू पंचांग के अनुसार शारदीय नवरात्रि का त्योहार 26 सितंबर 2022 से प्रारंभ होगा। नवरात्रि का पर्व 4 अक्टूबर 2022 को समाप्त होगा।

यह भी पढ़ें- Karwa Chauth 2022 Date: करवा चौथ पर बन रहे कई शुभ संयोग, जानिए पूजा का उत्तम मुहूर्त

शारदीय नवरात्रि का कैलेंडर

पहला दिन - 26 सितंबर: मां शैलपुत्री

दूसरा दिन- 27 सितंबर: मां ब्रह्मचारिणी

तीसरा दिन- 28 सितंबर: मां चंद्रघंटा

चौथा दिन- 29 सितंबर: मां कुष्मांडा

पांचवां दिन- 30 सितंबर: मां स्कंदमाता

छठा दिन- 1 अक्टूबर: मां कात्यायनी

सातवां दिन- 2 अक्टूबर- मां कालरात्रि

आठवां दिन - 3 अक्टूबर- मां महागौरी पूजा

नौवा दिन- 4 अक्टूबर - मां सिद्धिदात्री

यह भी पढ़ें- Dussehra 2022 Upay: धनवान बनना है तो दशहरा के दिन करें ये उपाय, होगा चमत्कारिक लाभ

मां दुर्गा के प्रसन्न करने के लिए करें इन मंत्रों का जप

1. ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै

2. सर्वमंगल मांगल्ये शिव सर्वार्थ साधिके।

शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोस्तुते।।

3. ऊँ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।

दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तुते।।

4. सर्वस्वरुपे सर्वेशे सर्वशक्तिमन्विते।

भये भ्यस्त्राहि नो देवि दुर्गे देवि नमो स्तुते।।

5. शरणागत दीनार्त परित्राण परायणे।

सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमो स्तुते।।

6. सृष्टि स्तिथि विनाशानां शक्तिभूते सनातनि।

गुणाश्रेय गुणमये नारायणि नमो स्तुते।।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By:

  • Font Size
  • Close