मल्टीमीडिया डेस्क। Happy Birthday Wriddhiman Saha: भारतीय विकेटकीपर रिद्धिमान साहा का आज (24 अक्टूबर को) जन्मदिन है। साहा की गिनती दुनिया के श्रेष्ठ विकेटकीपर्स में की जाती हैं और हाल ही में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ संपन्न सीरीज में उन्होंने इस काबिलियत को एक बार फिर साबित किया। वेस्टइंडीज दौरे पर रिषभ पंत के असफल होने की वजह से साहा को द. अफ्रीकी टीम के खिलाफ टेस्ट सीरीज में मौका मिला था और उन्होंने इसे दोनों हाथों से भुनाया।

साहा जब मैदान में विकेटकीपिंग करते हैं तो उन्हें देखकर लगता नहीं है कि वे 35 साल के हो गए हैं। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पुणे टेस्ट में साहा ने जिस तरह उमेश यादव की गेंद पर बाई तरफ डाइव लगाकर थियूनिस डी ब्रूएन का कैच लपका था, हर कोई सन्न रह गया था। ब्रूएन तो यह मानकर चल रहे थे कि उन्होंने चौका लगाया है लेकिन जिस तरह साहा ने डाइव लगाकर कैच लपका, वे यकीन ही नहीं कर पा रहे थे। साहा ने इसके बाद फॉफ डु प्लेसिस का भी शानदार कैच लपका था। उन्होंने ऐसे प्रदर्शन से साबित किया कि क्यों भारतीय कप्तान विराट कोहली उनकी गिनती दुनिया के श्रेष्ठ विकेटकीपर्स में करते हैं। भारतीय पिचों पर स्पिनर्स के खिलाफ विकेटकीपर को बहुत ज्यादा सजग और चुस्त होना पड़ता है और उनकी इस खासियत की वजह से उन्हें पंत की बजाए मौका मिला था।

साहा ने 6 फरवरी 2010 को नागपुर में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। उन्हें इसके बाद अगला टेस्ट मैच खेलने के लिए दो साल तक इंतजार करना पड़ा और वे 2012 में एडिलेड में मैदान में उतरे क्योंकि कप्तान और नियमित विकेटकीपर महेंद्रसिंह धोनी को टीम के स्लो ओवर रेट के कारण निलंबित किया गया था। धोनी ने जब 2014 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लिया, उसके बाद साहा को टीम इंडिया में नियमित विकेटकीपर के रूप में जगह मिली। उन्होंने बल्ले के साथ भी कमाल किया और श्रीलंका में 2015 में लगातार दो फिफ्टी लगाई। उन्होंने इसके बाद अगले साल सेंट लुसिया में पहला टेस्ट शतक लगाया। साहा ने जुलाई 2016 में नॉर्थ साउंड में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट मैच में एक पारी में 6 शिकार करने के भारतीय रिकॉर्ड की बराबरी की। इससे पहले यह उपलब्धि सैयद किरमानी और महेंद्रसिंह धोनी के नाम थी।

साहा का करियर :

साहा ने 2007 में बंगाल की तरफ से हैदराबाद के खिलाफ फर्स्ट क्लास डेब्यू किया था। वे रणजी डेब्यू में शतक लगाने वाले बंगाल के 15वें खिलाड़ी बने थे। साहा अभी तक भारत की तरफ से 35 टेस्ट मैचों में 30.22 की औसत से 1209 रन बना चुके हैं। उन्होंने इस दौरान 3 शतक और 5 अर्द्धशतक लगाए हैं। उन्होंने इस दौरान 86 कैच लिए और 11 स्टम्पिंग की हैं। वे भारत की तरफ से 9 इंटरनेशनल वनडे मैच भी खेल चुके हैं। साहा जनवरी 2018 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के दौरान चोटिल हो गए थे और वे इसके चलते करीब 22 महीनों तक टीम इंडिया से बाहर रहे। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज के दौरान टीम इंडिया में वापसी की और शानदार प्रदर्शन कर बांग्लादेश दौरे के लिए टीम में अपनी जगह पक्की कर ली हैं।

Posted By: Kiran Waikar

fantasy cricket
fantasy cricket