गर्मियों के इस सीजन में अगर आप नया AC खरीदने की सोच रहे हैं, तो खरीदारी करने से पहले आप अपनी Priority तय कर लें। क्योंकि जब आप बाजार में निकलेंगे तो आपको AC की इतनी वेरायटी मिलेगी कि आप कन्फ्यूज हो जाएंगे और बेस्ट डील नहीं ले पाएंगे। उदाहरण के लिए, आप रिमोट से चलनेवाला AC चाहते हैं या मोबाइल एप से कंट्रोल होनेवाला? हवा फिल्टर वाली चाहिए या अपने आप साफ होनेवाला फिल्टर? कम बिजली खपत वाला AC चाहिए या आपको देखते ही ऑन होनेवाला AC? हाल के दिनों में AC की तकनीक में इतने नये फीचर्स आ गये हैं कि आप अपनी जरुरत और बजट के हिसाब से मनमाफिक AC चुन सकते हैं। तो चलिए आपको बताते हैं कि आजकल के नये AC में किस तरह के फीचर्स शामिल हैं।

मोबाइल फोन से कंट्रोल करें AC

अगर आप धूप में निकले हैं और घर पहुंचते ही ठंडी हवा का आनंद लेना चाहते हैं, तो पहुंचने से पहले अपना स्मार्टफोन निकालें और ऐप की मदद से फौरन AC ऑन कर लें। जब आप घर पहुंचेंगे, तो कमरा पहले से ही ठंडा मिलेगा। जी हां, बाजार में अब ऐसे AC मौजूद हैं, जो कहीं से भी ऑन या ऑफ हो सकते हैं।

अब ऐसे एसी लॉन्च हो चुके हैं, जो ऐप से कंट्रोल होते हैं। ये इंटरनेट (wi-fi) के जरिए कनेक्ट रहते हैं और ऐप के जरिए इन्हें दूर से भी कंट्रोल किया जा सकता है। इस ऐप की मदद से AC को चालू करना, स्लीपिंग मोड में डालना या कूलिंग कम या ज्यादा करना, जैसे काम संभव हैं। इससे ये भी पता चल सकता है कि आपका AC कितनी देर चल रहा है और कितनी बिजली की खपत कर रहा है।

लोगों की संख्या के मुताबिक कूलिंग करेगा AC

आज जैसे ही कमरे में आएंगे, आपका AC ठंडक देने लगेगा। इस बीच कोई और आ जाए, तो AC ठंडक बढ़ा देगा। अगर कमरे में कोई नहीं हैं, तो अपने आप कूलिंग कम हो जाएगी। है ना कमाल की तकनीक? इन दिनों AC में iSee तकनीक आ गई है। ऐसे AC में इमेज सेंसर लगे होते हैं, इसलिए अगर एसी ऑन है तो वह तभी कमरा ठंडा करना शुरू करेगा, जब वहां कोई मौजूद होगा।

अगर कमरे में ज्यादा लोग पहुंच जाएं, तो ये उसी मुताबिक अपनी कूलिंग बढ़ा देता है। वहीं एक निश्चित समय तक कोई कमरे में न हो, तो AC अपने आप बंद हो जाता है। ये समय भी आप तय कर सकते हैं। इसमें आपको AC के रिमोट से कूलिंग कम या ज्यादा करने की जरुरत नहीं पड़ती। साथ ही इससे बिजली की खपत भी कम होती है।

अपने आप साफ होंगे AC के फिल्टर

AC के फिल्टर को इस्तेमाल के मुुताबिक समय-समय पर साफ करवाना जरूरी होता है। अगर ऐसा नहीं किया, तो कूलिंग सही नहीं मिलेगी और बिजली की खपत भी बढ़ जाएगी। अगर आपने 6 महीने तक फिल्टर साफ नहीं करवाया, तो कूलिंग में 50% तक की कमी हो सकती है। लेकिन अब आपको इसकी सफाई की चिंता करने की जरुरत नहीं। मार्केट में ऐसे AC मौजूद हैं, जो खुद अपना फिल्टर साफ कर लेते हैं।

आजकल AC में iClean, iCleanser, Blow Clean जैसी तकनीक आ रही है, जिससे उसके फिल्टर अपने आप साफ हो जाते हैं। कुछ AC में एक ब्रश और एक डस्ट बॉक्स लगा होता है। ब्रश को चालू करने पर यह फिल्टर को 5 से 7 मिनट में पूरी तरह साफ कर देता है और सारी धूल-मिट्टी बॉक्स में जमा हो जाती है। इस बॉक्स को निकालकर साफ कर लें और आपका काम खत्म। कुछ AC में ब्लोअर लगा होता है, जिसे चालू करते ही AC का फिल्टर चंद मिनटों में ही साफ हो जाता है।

प्रदूषण से हैं परेशान तो मिलेगी शुद्ध हवा

दिल्ली-एनसीआर समेत देश के कई शहरों में इन दिनों वायु प्रदूषण से परेशानी बढ़ रही है। वहीं भीड़-भाड़ वाले इलाकों में रहनेवाले लोगों के लिए साफ हवा का मिलना मुश्किल हो गया है। ऐसे लोगों की जरुरतों के लिए कंपनियों ने ऐसे AC किये हैं, जिनमें फिल्टर लगे हुए हैं।

AC में लगे ये फिल्टर हवा में मौजूद PM 2.5 माइक्रोन के कणों को आने से रोकते हैं। आपको बता दें कि प्रदूषित हवा में मौजूद ये कण कैंसर की वजह भी बन सकते हैं। कुछ AC में ऐसे भी फिल्टर लगे होते हैं, जो PM 1.0 माइक्रोन के कणों को भी घर में नहीं आने देते। साथ ही कुछ ऐसी ऐसे भी हैं जो हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस भी नहीं आते देते।

चाहिए बिजली की डबल बचत?

आजकल ऐसे AC भी मार्केट में हैं, जो इनवर्टर तकनीक का इस्तेमाल करते हैं। यानी अगर आपने AC को 25 डिग्री सेल्सियस पर सेट किया, तो इस तापमान तक ठंडा करने के बाद AC कूलिंग करना बंद कर देता है। फिर जैसे ही कमरे का तापमान बढ़ेगा, ये कुलिंग शुरु कर देगा। ये तकनीक पहले से मौजूद AC में भी होती है। लेकिन उसमे AC में लगा कम्प्रेसर बंद हो जाता है। जब तापमान बढ़ने पर कम्प्रेसर दुबारा शुरू होता है, तो ज्यादा बिजली की खपत करता है। इनवर्टर तकनीक वाले एसी में कम्प्रेसर बंद नहीं होता बल्कि वह कूलिंग करना बंद कर देता है।

इसी से एक कदम और आगे बढ़ते हुए अब मार्केट में डबल इनवर्टर तकनीक वाले AC भी मौजूद हैं। डूअल इनवर्टर तकनीक से कमरा ज्यादा देर तक ठंडा रहता है और बिजली की खपत भी कम होती है। इनमें अडवांस्ड लेवल की मोटर लगी होती है, जो दूसरे AC के मुकाबले कम वाइब्रेशन, कम शोर और ज्यादा कूलिंग देते हैं।

और भी कई हैं विकल्प

इनके अलावा अगर एक ही AC को अलग-अलग कमरों में इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो आप पोर्टेबल AC ले सकते हैं। इस एसी में पहिये लगे होते हैं। ये साइज में छोटे होते हैं और इनका वजन भी कम होता है। कमरे से गर्म हवा को बाहर निकालने के लिए इनमें पीछे की ओर लगभग 8 से 10 फीट लंबा पाइप लगा होता है। ये 0.5 टन से 1.5 टन की क्षमता में उपलब्ध हैं।

कुछ ऐसे AC भी हैं, जिनमें कई तरह की तकनीक एक साथ मौजूद है। जैसे, Wi-Fi के साथ PM 2.5 कणों को रोकने की भी सुविधा, डुअल इनवर्टर, फिल्टर की सफाई के साथ बैक्टीरिया और वायरस से भी बचाव आदि। LG, Hitachi, BlueStar, Daikin,Carrier,LG, Panasonic, Voltas आदि कई कंपनियों ने ऐसे मॉडल ऑफर किये हैं, जिनमें से आप अपनी सुविधा, जरुरत और बजट के हिसाब से AC खरीद सकते हैं।

Posted By: Shailendra Kumar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Assembly elections 2021
Assembly elections 2021
 
Show More Tags