DigiLocker: डिजिलॉकर क्लाउड डॉक्टूमेंट स्टोरेज वॉलेट है। इस प्लेटफॉर्म को इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने डिजिटल इंडिया के तहत विकसित किया है। इसकी सहायता से भारतीय नागरिक अपने दस्तावेजों को डिजिटल रूप से वेरिफाइड और स्टोर कर सकते हैं। उदाहरण के लिए अगर आपको बैंक अकाउंट के लिए केवाईसी करना हैं, तो आप इसे डिजिलॉकर के जरिए ऑनलाइन कर सकते हैं। डिजिलॉकर में ग्राहक अपने महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, स्कूल मार्कशीट, इंश्योरेंस पेपर आदि को स्टोर कर सकते हैं। DigiLocker में लोग अपने सभी डॉक्टूमेंट्स डिजिटल रूप से सुरक्षित रख सकते हैं। यह कई प्लेटफॉर्मों पर डिजिटल रूप से प्रमाणित हो सकता है। इसकी मदद से नागरिक सरकारी सेवाओं, रोजगार और स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं।

डिजिलॉकर अकाउंट कैसे बनाएं?

1. सबसे पहले फोन में गूगल प्लेस्टोर से DigiLocker ऐप डाउनलोड करें।

2. ऐप खोलें और अपनी भाषा चुनें।

3. नीचे स्क्रॉल करें और गेट स्टार्ट बटन पर टैप करें।

4. वहां क्रिएट अकाउंट पर क्लिक करें।

5. नाम, जन्मतिथि, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी और आधार नंबर डालें। फिर 6 अंकों का पिन सेट करें। इसके बाद सबमिट बटन पर क्लिक करें।

6. आपके मोबाइल नंबर और ईमेल पर एक OTP आएगा। आपको ओटीपी डालने के बाद आधार विवरण प्राप्त किया जाएगा।

7. इस तरह आपका डिजिलॉकर अकाउंट सेटअप हो जाएगा।

डिजिलॉकर पर दस्तावेज कैसे अपलोड करें?

1. अपने दस्तावेजों को अपलोड करने के लिए सबसे पहले लॉगिन करना है।

2. स्क्रीन पर मीनू बार में अपलोड का विकल्प मिल जाएगा।

3. अपलोड के ऑप्शन पर क्लिक करें।

4. अब जिस दस्तावेज को अपलोड करना चाहते हैं उसे अपने मीडिया से चुने।

5. अब आपका डॉक्टूमेंट अपलोड हो जाएगा।

Digilocker.gov.in पर लॉगिन कैसे करें?

1. सबसे पहले डिजिलॉकर की वेबसाइट digilocker.gov.in पर जाना होगा।

2. होम पेज पर सबसे ऊपर की ओर भाषा का चयन कर सकते हैं।

3. होमपेज पर दाहिने तरफ साइन इन और साइन अप का विकल्प मिल जाएगा।

4. साइन इन पर क्लिक करते ही अब लॉगिन पेज खुलेगा।

5. अब आपको अपना आधार, मोबाइल नंबर डालना होगा। फिर ओटीपी को भरना होगा।

6. अब आप डिजिलॉकर वेबसाइट पर लॉगिन कर चुके हैं।

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close