मल्टीमीडिया डेस्क। माइक्रोसॉफ्ट एक बड़ा कदम उठाने जा रहा है और अपने वॉइस असिस्टेंट ऐप कोर्टाना को बंद करने की तैयारी में है। माइक्रोसॉफ्ट एंड्रॉयड और आईओएस के लिए कोर्टाना का सपोर्ट बंद करेगा। एंड्रॉयड के गूगल असिस्टेंट और एपल के सीरी की तरह यह सिस्टम से इटीग्रेटेड ना होकर एक अलग ऐप है। एंड्रॉयड में यूजर कोर्टाना को माइक्रोसॉफ्ट लॉन्चर की मदद से तेजी से इनवोक कर सकता है लेकिन माइक्रोसॉफ्ट ने अब दोनों ही ऑपरेटिंग सिस्टम्स के लिए कोर्टाना का सपोर्ट बंद करने का फैसला किया है। कंपनी 31 जनवरी 2020 तक यह सपोर्ट बंद कर देगी।

इसके बाद कोर्टाना को माइक्रोसॉफ्ट की नई ऑफिस ऐप ऑफिस 365 में जगह दी जाएगी। कंपनी ने इस ऐप को यूके, ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी, मैक्सिको, चीन, स्पेन, कनाडा और भारत में बंद करने की बात कही है। कंपनी ने इसे लेकर जारी बयान में कहा है कि हम कोर्टाना को पहले से ज्यादा मददगार बनाने के लिए इसे Microsoft 365 के साथ इंटीग्रेट कर रहे हैं और इसी बदलाव के हिस्से के तहत हम एंड्रॉयड और आईओएस को सपोर्ट बंद कर रहे हैं।

हालांकि, यह साफ नहीं है कि 31 जनवरी के बाद एंड्रॉयड और आईओएस के लिए सपोर्ट बंद होने के बाद कितने दिनों तक चलेगा। फिलहाल यह इन ऑपरेटिंग सिस्टम्स के लिए काम कर रहा है। कोर्टाना का उपयोग कंपनी के सर्फेस हेडफोन जैसे प्रोडक्ट्स में फर्मवेयर को अपडेट और सेटिंग कॉन्फिगर करने के लिए होता है।

माइक्रोसॉफ्ट ने आईओएस और एंड्रॉयड के लिए कोर्टाना को दिसंबर 2015 में लॉन्च किया था और इसे विंडोज 10 पीसी को कनेक्ट के लिए डिजाइन किया गया था। बड़े रिडिजाइन के बावजूद माइक्रोसॉफ्ट इसे सफल बनाने में असफल रहा था। हालांकि, कंपनी ने काफी कोशिश की लेकिन सीरी और एंड्रायड असिस्टेंट की वजह से एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर इस ऐप को उतना फायदा नहीं मिला जितना कंपनी उम्मीद कर रही थी।

Posted By: Ajay Barve