Afghanistan Govt: अफगानिस्तान में तालिबान की नई सरकार का गठन हो गया है। मुल्ला मोहम्मद याकूब को अफगानिस्तान का रक्षा मंत्री बनाया गया है। यह मुल्ला मोहम्मद याकूब उसी मुल्ला उमर का बेटा है, जिसने IC-814 अपहरण की साजिश रची है। बता दें, 1999 में इसी इंडियन एयरलाइंस की उड़ान के बदले भारत को जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मौलाना मसूद अजहर, मुश्ताक अहमद जरगर और अल-कायदा नेता अहमद उमर सईद शेख जैसे आतंकियों को जेल से रिहा करना पड़ा था। अपहर्ताओं ने आईसी-814 विमान के 176 यात्रियों को सात दिनों तक बंधक बनाकर रखा था। फ्लाइट ने काठमांडू से उड़ान भरी थी और दिल्ली की ओर जा रही थी लेकिन उसे हाईजैक कर अफगानिस्तान के कंधार ले जाया गया था। इस पूरी साजिश के पीछे पाकिस्तान की खूफिया एजेंसी का हाथ बताया गया था और अब मुल्ला मोहम्मद याकूब का अफगानिस्तान का रक्षा मंत्री बनना बताता है कि तालिबान की नई सरकार के पीछे भी पाकिस्तान का हाथ है।

Mullah Mohammad Yaqoob के साथ ही गृह मंत्री के रूप में सिराजुद्दीन हक्कानी और मुल्ला हसन अखुंद का सरकार में शामिल होना भी पाकिस्तान का असर बताया जा रहा है। ये दोनों आतंकी भी अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र की सूची में हैं। कुल मिलाकर अफगानिस्तान की नई सरकार पर वहां सक्रिय हक्कानी नेटवर्क के साथ ही पाकिस्तान का समर्थन साफ दिखाई दे रहा है।

हक्कानी नेटवर्क का तालिबान शासन में हिस्सा पाना भारत के लिए चिंता का विषय है। कारण- पाकिस्तान अपने फायदे के लिए इसका इस्तेमाल कर सकता है और अफगानिस्तान में भारत के प्रभाव को भी बेअसर कर सकता है। हक्कानी नेटवर्क पहले भी काबुल में भारतीय दूतावास को निशाना बना चुका है।

Posted By: Arvind Dubey