International Day of the Girl Child 2021 Wishes । हर वर्ष 11 अक्टूबर का दिन अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस खास दिन पर परिवार, समाज और देश के लिए बालिकाओं के महत्व को दर्शाया जाता है। साथ ही यह संदेश दिया जाता है कि बालिकाओं की क्षमताओं और शक्तियों को पहचान कर उनके लिए दिल खोलकर अवसर मुहैया कराने चाहिए। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने के पीछे उद्देश्य है कि दुनियाभर की बालिकाओं के आवाज का सशक्त करना है। दुनियाभर में कई ऐसे इलाके या देश के जहां बालिका को लड़कियों की तुलना में कम महत्व दिया जाता है और बालिकाओं के साथ विवाह, शिक्षा, सामाजिक स्तर में कई तरह के भेदभाव किए जाते हैं। साथ ही हिंसा, शिक्षा के खराब अवसरों जैसे लिंग आधारित चुनौतियों का सामना करने के कारण कई देशों में महिलाओं के स्थिति काफी खराब है। इस बार International Day of the Girl Child 2021 को ‘डिजिटल जनरेशन: हमारी पीढ़ी’ की थीम के आधार पर मनाया जा रहा है। यदि International Day of the Girl Child 2021 को आप भी सेलिब्रेट करना चाहते हैं और अपनी प्यारी से बेटी के शुभकामना के तौर पर एक प्यारा सा संदेश भेजना चाहते हैं तो इन संदेशों को आजमा सकते हैं, जो बेटी के दिल को छू जाएंगे -

चांद सी बेटियों को सूरज बनाने लगे है,

बुरी नजर से घूरने वाले कतराने लगे हैं

Happy International Day of the Girl Child 2021

=============

रिश्ते के उलझे धागों को धीरे धीरे खोल रही है

रिश्ते के उलझे धागों को धीरे धीरे खोल रही है

बिटिया कुछ कुछ बोल रही है पूरे घर में डोल रही है

Happy International Day of the Girl Child 2021

=============

काश !!! हर सुबह नवरात्र की अष्टमी सी होती

हर किसी की नजर में बेटियां देवी सी होती

Happy International Day of the Girl Child 2021

=============

दुश्मनों का मुकाबला डट के कर सकती है “बेटी”...

मत बाँधों बेड़ियों में ऊँची उड़ान भर सकती है “बेटी”

Happy International Day of the Girl Child 2021

=============

समाज के इस रीत में है बुराई,

जो बेटी को पल भर में बना देता है पराई

Happy International Day of the Girl Child 2021

=============

होश में आओ, बेटी बचाओ

नारी है नारायणी, परिवार की कल्याणी

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं

======

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, समाज को प्रगति के रास्ते ले जाओ

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं

=======

जिस घर में होता बेटी का सम्मान, वह घर होता स्वर्ग समान

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं

=========

बेटी है स्वर्ग की सीढ़ी, वह पढ़ेगी, तो बढ़ेगी अगली पीढ़ी

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं

===========

बेटी है कुदरत का उपहार, जीने दो उनको और दो अधिकार

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं

==========

मां चाहिए… पत्नी चाहिए… बहन चाहिए…

फिर बेटी क्यों नहीं चाहिए?

सोचने वाली बात है न! आइए मिलकर समाज को जागरूक करें।

Happy International Day of the Girl Child 2021

=============

International Day of the Girl Child का इतिहास ( History of International Day of the Girl Child )

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर International Day of the Girl Child 2021 मनाने की शुरुआत एक NGO 'प्लान इंटरनेशनल' के द्वारा की गई थी। इसके शुरुआत एक प्रोजेक्ट के रुप में हुई थी। इस NGO ने “क्योंकि मैं एक लड़की हूं’ नाम से एक जागरुकता कैम्पैन चलाया था। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस अभियान के विस्तार के लिए कनाडा सरकार से संपर्क किया गया। कनाडा सरकार ने संयुक्त राष्ट्र की 55वीं आम सभा में International Day of the Girl Child 2021 मनाने का प्रस्ताव रखा और अंतत: संयुक्त राष्ट्र ने 19 दिसंबर, 2011 को इस प्रस्ताव को पारित किया। इसके बाद अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने के लिए 11 अक्टूबर की तारीख तय की गई और उसके बाद साल 2012 के बाद हर साल International Day of the Girl Child 2021 मनाया जाने लगा है।

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस का महत्व ( Importance of International Girl Child Day )

संयुक्त राष्ट्र में सतत विकास लक्ष्यों को 2017 में अपनाया गया था, जिसमें लैंगिक समानता और महिला सशक्तिकरण प्राप्त करना भी शामिल है। इसी के मद्देनजर साल 2030 तक यह लक्ष्य रखा गया है कि युवा लड़कियों की सहायता कर बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं, शिक्षा में समान अवसर और बिना किसी लिंग-आधारित भेदभाव या हिंसा के सभी अवसर उपलब्ध कराएं जाएंगे।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के कारण दुनिया के अधिकांश आबाद लैपटॉप व मोबाइल के सामने बैठकर काम करने के लिए मजबूर हो गई है, ऐसे में दूसरी चुनौती यह भी है कि दुनियाभर में लगभग 2.2 बिलियन लोगों के पास अभी भी इंटरनेट कनेक्शन नहीं है। ऐसे में खासकर लड़कियों की स्थिति और भी अधिक खराब है।

वैश्विक स्तर पर, इंटरनेट उपयोगकर्ताओं का लिंग अंतर 2013 में 11 प्रतिशत से बढ़कर 2019 में 17 प्रतिशत हो गया है। सबसे कम विकसित देशों के लिए यह करीब 43 प्रतिशत हो चुका है। डिजिटल क्रांति के युग में जहां लोग नए कौशल सीखने और राजस्व अर्जित करने के लिए विभिन्न तरीकों से प्रौद्योगिकी का उपयोग कर रहे हैं तो ऐसे में महिलाओं और लड़कियों को पीछे इस मामले में पीछे नहीं छोड़ा जा सकता है।

Posted By: Sandeep Chourey